Ultimate magazine theme for WordPress.

अर्जुन मुंडा ने ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ, झारखंड से दूसरे ऐसे नेता जिन्हें ये दर्ज़ा हासिल हुआ.

0

रांची: लोकसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत हासिल करने बाद नरेंद्र मोदी समेत 57 सांसद ने 30 मई को मंत्री पद की शपथ ली. इन 57 नामों में से एक नाम देश की राजधानी दिल्ली से करीब 1,222 km दूर झारखंड के खूंटी लोकसभा क्षेत्र से सांसद और राज्‍य के पूर्व मुख्‍यमंत्री अर्जुन मुंडा का भी रहा.

अर्जुन मुंडा ने केंद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली. गुरुवार काे उन्‍होंने PM मोदी और अन्‍य सांसदों के साथ मंत्री पद की शपथ ली. पहले PM मोदी ने शपथ ली. केंद्र में एक मंत्री झारखंड से होगा इस बात का अंदाज़ा तभी हो गया था जब अर्जुन मुंडा को PMO ने चाय पर बुलाया था.

आपको बता दें कि यशवंत सिन्हा के बाद अर्जुन मुंडा झारखंड के दूसरे ऐसे नेता हैं जिन्हे NDA में कैबिनेट मंत्री का दर्जा हासिल हुआ है.

अर्जुन मुंडा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में 14वें मंत्री के रूप में शपथ ली.

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने ट्वीट कर केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा को बधाई दी. उन्होंने लिखा कि “हमारे वरिष्ठ साथी और खूंटी से सांसद अर्जुन मुंडा को केंद्रीय मंत्री बनने पर हार्दिक शुभकामनाएं.”

 

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा इस लोकसभा चुनाव में खूंटी से BJP का मोर्चा संभाल रहे थे. उनके सामने खड़े थे कांग्रेस प्रत्‍याशी कालीचरण मुंडा. खूंटी संसदीय क्षेत्र में मतगणना को लेकर कुछ विवाद सामने ज़रूर आये लेकिन फिर फाइनल रिजल्ट में मालूम हुआ कि, अर्जुन मुंडा ने कांग्रेस प्रत्याशी को 1445 वोट से पराजित किया है.

आपको बातें दें कि 35 साल की उम्र में मुख्यमंत्री का पद संभालने वाले अर्जुन मुंडा के नाम, देश में सबसे कम उम्र में मुख्यमंत्री बनने का रिकॉर्ड.

अर्जुन मुंडा का जन्म 5 जून 1968 को जमशेदपुर घोड़ाबांधा में हुआ. केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने 1980 में अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत झारखंड आंदोलनकारी के रूप में की थी.

केन्दीय मंत्री अर्जुन मुंडा तीन बार झारखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मार्च 2003 में उन्होंने पहली बार मुख्यमंत्री पद कि शपथ ली थी. इस दौरान उनका कार्यकाल 1 साल 11 महीने 12 दिन ही चल पाया था. वहीँ दूसरी बार उन्होंने मार्च 2005 में मुख्यमंत्री पद संभाला लेकिन इस बार भी वो अपने कार्यकाल को पूरा नहीं कर पाए और दूसरी बार भी महज 1 साल 6 महीने और 2 दिन तक ही झारखंड के मुख्यमंत्री पर बैठने का मौका मिला. उनका मुख्यमंत्री के रूप में सबसे लम्बा कार्यकाल रहा साल 2010 , इसबार उनकी सरकार 2 साल 4 महीने और 7 दिन तक चली.

झारखंड में अर्जुन मुंडा NDA सरकार के लिए संकट मोचन साबित होते आए हैं. जब भी NDA सरकार किसी भूलभुलैया में गुम हुई है, अर्जुन मुंडा ने पार्टी को सही राह दिखाने का काम किया है. मुख्यामंत्री के रूप में अर्जुन मुंडा ने जो भी विकास का ढांचा तैयार किया था आज भी पार्टी को उससे बहुत लाभ हो रहा है.

उन्होंने राज्य में तीरंदाजी को भी बढ़ावा दिया है. केन्दीय मंत्री अर्जुन मुंडा एक तीरंदाजी अकादमी भी चलाते हैं और अंतर्राष्ट्रीय तीरंदाज दीपिका कुमारी के करियर में सहायक रहे हैं.

अर्जुन मुंडा को केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ लेते देख झारखंड के NDA समर्थक बहुत खुश हैं और सोशल मीडिया के माध्यम से लोग उन्हें मुबारकबाद दे रहे हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.