Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

आय से अधिक संपत्ति मामले में मुलायम और अखिलेश को 12 साल बाद Cleanchit

0

याचिकाकर्ता का आरोप- मुलायम सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए 100 करोड़ रु. से ज्यादा की property जुटाई
CBI ने माना- पिता-पुत्र के मामले में काेई सबूत नहीं

नई दिल्ली। आय से ज्यादा संपत्ति जुटाने के मामले में समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव को सीबीआई से क्लीनचिट देते हुए जांच एजेंसी ने आज मंगलवार को supreme court में affidavit पेश कर विस्तृत ब्योरा दिया। केंद्रीय जांच एजेंसी-CBI ने माना कि एजेंसी ने 7 अगस्त, 2013 में मामले की जांच बंद की थी। ऐसा कोई सबूत उसे नहीं मिला, जिससे पिता-पुत्र के विरुद्ध मामला दर्ज हो सके।

वकील विश्वनाथ चतुर्वेदी ने पिछली अप्रैल में सर्वोच्च अदालत में petition लगाई थी। इसमें जांच अंजाम तक पहुंचाने को लेकर व्योरा मांगा गया था। मामले पर सुनवाई करते हुए supreme court ने CBI से जवाब तलब किया था। उच्चतम न्यायालय ने 2007 में मामले की जांच सीबीआई को सौंपी थी। इस पर अब सुनवाई गर्मी की छुट्टियों बीतने के बाद जुलाई में होगी।

दोनों पर क्या आरोप थे ?

विश्वनाथ चतुर्वेदी ने ही सुप्रीम कोर्ट में 2005 में याचिका दायर कर मुलायम, उनके पुत्र अखिलेश यादव, बहू डिंपल और एक और बेटे प्रतीक के विरुद्ध आमदनी से ज्यादा संपत्ति होने का मामला दर्ज कराया था। आरोप लगाया गया था कि मुलायम सिंह यादव ने 1999 से 2005 की अवधि के दौरान उत्तर प्रदेश के CM रहते हुए 100 करोड़ से अधिक की संपत्ति इकठ्ठा की थी। इस वर्ष फरवरी में चतुर्वेदी ने एक याचिका दाखिल कर कहा है कि सीबीआई ने अपनी शुरूआती जांच में आवश्यकता से अधिक समय लगाया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.