Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

बंगाल-त्रिपुरा में हिंसा, दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या; मारपीट में 150 घायल

0
  • त्रिपुरा में बीजेपी समर्थक की विपक्षी सीपीएम कार्यकर्ताओं ने की हत्या
  • बंगाल के नादिया में तृणमूल छोड़ बीजेपी में शामिल कार्यकर्ता को घर से बुलाकर मारी गोली
  • त्रिपुरा के सीएम ने कहा- कानून तोड़ने वालों को छोड़ेंगे नहीं, बंगाल में बीजेपी बोली- टीएमसी को वैसी ही भाषा में देंगे जवाब

कोलकाता/अगरतला लोकसभा चुनाव नतीजे सामने आने के बाद बंगाल और त्रिपुरा में शुरू हुई हिंसा थम नहीं रही है। 3 दिनों से दोनों राज्यों के कई शहरों में हिंसक घटनाएं हो रही हैं। इसमें दो बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की खबर है। दोनों राज्यों में छिड़ी झड़पों में करीब 150 लोग घायल हैं। बंगाल बीजेपी ने टीएमसी समर्थकों पर हिंसा का आरोप लगाया और कहा कि हम जवाब देने के लिए ‘जैसे को तैसा’ वाली नीति अपनाएंगे। इस बीच, त्रिपुरा के सीएम बिप्लव कुमार देव ने कहा है कि चुनाव नतीजे सामने आने के साथ ही हिंसा फैलाने का फैशन लेफ्ट पार्टियों की ओर से आया है। लेकिन, हम चेतावनी देना चाहते हैं कि कानून हाथ में लेने वालों को कभी बख्शा नहीं जाएगा।

बंगाल में 25 साल के बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या

पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में शुक्रवार रात अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर बीजेपी के एक कार्यकर्ता की हत्या कर दी। ये घटना शुक्रवार रात चकदाह इलाके में हुई। 25 साल के संतु घोष कुछ दिन पहले टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। बीजेपी नेताओं ने ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस पर हत्या करवाने का आरोप लगाया है। उधर, लोकसभा चुनाव रिजल्ट्स के बाद बैरकपुर सीट के कई शहरों में हिंसक घटनाएं हुईं। विस्फोट में एक व्यक्ति की जान चली गई। पुलिस ने बताया, संतु रात करीब 9 बजे घर लौटा था। कुछ देर बाद उन्हें दो लोगों ने घर के बाहर बुलाया और गोली मारकर फरार हो गये।

त्रिपुरा में धारदार हथियारों से बीजेपी कार्यकर्ता पर हमला

त्रिपुरा के फटिकछेड़ा इलाके में शुक्रवार को विपक्षी दल सीपीएम समर्थक सदन देबनाथ ने अपने भाइयों के साथ बीजेपी कार्यकर्ता- मिथू और उसके भाई संजीव पर धारदार हथियार से हमला किया। इसके बाद मिथू की मौत हो गई। संजीव को अगरतला के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

टीएमसी को उसी की भाषा में जवाब देंगे : बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने टीएमसीकार्यकर्ताओं पर हिंसा फैलाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि टीएमसी के गुंडे विपक्षी नेताओं और उम्मीदवारों पर हमले कर रहे हैं। सीएम ममता बनर्जी की टीएमसी हार पचा नहीं पा रही है, लेकिन उन्हें नतीजों को अच्छी भावना के साथ देखना होगा। यदि टीएमसी हिंसा का इस्तेमाल धमकाने के लिए कर रही है और हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला जारी रखती है, तो हम भी उसी की भाषा में जवाब देंगे।

नतीजों के बाद हिंसा का चलन लेफ्ट पार्टियों ने शुरू किया- बिप्लव देव

त्रिपुरा के सीएम बिप्लव देव ने कहा है कि मैंने सत्ताधारी बीजेपी कार्यकर्ताओं और विपक्षी सीपीएम को साफ बता दिया है कि किसी भी तरह की हिंसा में शामिल मत हों। राज्य सरकार शांति-व्यवस्था बनाये रखने में जुटी हुई है। वैसे भी यह किसी भी राजनीति से ऊपर है। लेफ्ट पार्टियों ने 1992 से नतीजों के बाद हिंसा फैलाने का फैशन शुरू किया है, लेकिन हम भी किसी को नहीं बख्शेंगे।

त्रिपुरा की 2 सीटों पर बीजेपी जीती, बंगाल में 2 से बढ़कर 18 पर पहुंची

इस बार बीजेपी को बंगाल में 18 सीटों पर जीत हासिल मिली, जबकि 2014 में उसे सिर्फ दो सीटें मिली थीं। 2014 में टीएमसी ने 34 सीटें जीती थीं। लेकिन इस बार उसे घटकर 22 पर उसे जीत मिली है, वहीं त्रिपुरा की दो लोकसभा सीट इस बार बीजेपी ने जीत दर्ज की है। ये सीटें पिछली बार सीपीएम के पास थीं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.