Ultimate magazine theme for WordPress.

ममता के गढ़ बंगाल में सेंध के बाद बीजेपी की TMC नेताओं पर नजर

0
  1. मुकुल रॉय के पुत्र शुभ्रांशु सहित TMC के 3 विधायक और कई पार्षद बीजेपी का दामन थामने की फ़िराक में
  2. बंगाल में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प और आरोप-प्रत्यारोप जारी
  3. बीरभूम में कल बीजेपी की विजय रैली में देसी बम से हमले, दुर्गापुर में टीएमसी ऑफिस में तोड़फोड़

कोलकाता. लोकसभा चुनाव के दौरान बंगाल में शुरू हुई हिंसा और बीजेपी और टीएमसी के बीच जारी तनाव खत्म नहीं हुआ है। लेकिन, TMC के 3 विधायकों और कई पार्षदों के BJP में शामिल होने की अटकलें हैँ, इसके बाद दोनों दलों में तनाव भड़कने की आशंका है। लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में बड़े प्रदर्शन के बाद बीजेपी और हमलावर है। इसके साथ टीएमसी और ममता बनर्जी को चुनौती देने के मूड में हैँ। ममता बनर्जी के कभी काफी करीबी रहे मुकुल रॉय के नेतृत्व में बीजेपी टीएमसी नेताओं को पटाने में जुटी है।

अटकलें हैं कि मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु सहित टीएमसी के 3 एमएलए दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैं। शुभ्रांशु के अतिरिक्त नोआपारा से एमएलए सुनील सिंह और बैरकपुर के एमएलए शीलभद्र दत्ता के भी मुकुल रॉय के साथ दिल्ली में हैँ। खुद रॉय 2017 से बीजेपी में शामिल थे। मुकुल के बेटे शुभ्रांशु को टीएमसी पार्टी-विरोधी गतिविधियों के आरोप में पहले से ही सस्पेंड हैँ। तीनों विधायकों के अतिरिक्त टीएमसी के कई पार्षद भी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। तीनों विधायक बैरकपुर लोकसभा सीट के तहत विधानसभा क्षेत्रों की नुमांदगी करते हैं। बैरकपुर से बीजेपी के अर्जुन सिंह ने टीएमसी के कद्दावर नेता और 2 बार के एमपी रहे दिनेश त्रिवेदी को हराया है। बिजपुर से एमएलए सुनील सिंह अर्जुन सिंह के रिश्तेदार हैं।

टीएमसी के 20 पार्षद दिल्ली में

लेकिन, टीएमसी के कई पार्षद दिल्ली पहुंचे हैं, जो बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैँ। इनमें शामिल गरीफा के वॉर्ड नंबर 6 की टीएमसी पार्षद रूबी चटर्जी ने दावा किया कि उनके साथ 19 अन्य पार्षद भी दिल्ली में हैं। उन्होंने कहा कि 20 पार्षद दिल्ली में हैं। हम ममताजी से नाराज नहीं हैं लेकिन पश्चिम बंगाल में बीजेपी की हाल में हुई जीत से प्रभावित होकर हम पार्टी में शामिल हो रहे हैं। बीजेपी को लोग पसंद कर रहे हैं और उसके लिए काम कर रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.