Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

झारखंड में शादी का झांसा देकर यौन शोषन व घरेलु हिंसा के मामले सबसे अधिक

सूबे में शादी का झांसा देकर यौन शोषन व घरेलु हिंसा के मामले सबसे अधिक

0

रांची। महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों को रोकने के लिये संबंधित जिलों में एक वाट्सएप्प नंबर प्रसारित करने का निर्देश दिया गया था। जिसके बाद विभिन्न जिलों द्वारा प्रसारित वाट्सएप्प नंबर पर अबतक कुल 108 शिकायतें मिली जिसमें सर्वाधिक राजधानी रॉची में कुल 28, गिरीडिह में कुल 18 तथा जमशेदपुर से कुल 12 शिकायतें आयी। साहेबगंज जामताड़ा एवं खूँटी में किसी प्रकार की शिकायत नहीं मिली। इसमें अधिकांश मामले शादी का झांसा देकर यौन शोषन एवं घरेलु हिंसा के है। यह जानकारी सूबे के डीजीपी एमवी राव ने मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए बतायी।
उन्होंने बलात्कार के वैसे मामलों में जिनमें पंचायत द्वारा पीडि़ता एवं उसके परिजनों पर दबाव डालकर समझौता कराने का प्रयास किया जाता है, के विरूद्ध कड़ी कार्रवायी किये जाने की बात कही तथा पीडि़तों से निर्भीक होकर निकटवर्ती थानों में शिकायत दर्ज करने हेतु अनुरोध किया।
पुलिस महानिदेशक, झारखण्ड ने कहा कि महिला एवं बालिकाओं के साथ हुये बलात्कार के मामलों में संबंधित जिला के पुलिस अधीक्षकों द्वारा तत्काल संज्ञान लेकर स्वयं घटना की जाँच करेंगे तथा स्वयं पूरी जाँच कर अग्रतर कार्रवाई करना सुनिश्चित करेंगे, इससे थाना स्तर पर किसी प्रकार के लापरवाही की कोई गुंजाइश नहीं रहेगी। इस संबंध में एक एसओपी भी बनाया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि अवैध शराब तथा सभी प्रकार के मादक पदार्थों की तस्करी एवं बिक्री के विरूद्ध पुरे राज्य में एक साथ 01 नवम्बर से 02 सप्ताह का विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके उपरांत भी यदि किसी थाना क्षेत्र में मादक पदार्थों की बरामदगी होती है तो उसकी जिम्मेदारी संबंधित थाना प्रभारी की होगी। इसके अतिरिक्त बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर झारखण्ड पुलिस के द्वारा बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में कुल 50 चेक पोस्ट बनाये गये है एवं उन चेक-पोस्टों पर लगातार चेकिंग अभियान जारी है।
पुलिस महानिदेशक झारखण्ड ने सड़कों पर खतरनाक ढ़ंग से बाईक चलाने वाले बाइकर्स गैंग के विरूद्ध कड़ी कार्रवायी करने की बात कही, बाइकर्स को सीसीटीवीव एवं ईंटरसेप्टर के द्वारा चिन्हित कर उनकी गिरफ्तारी करते हुए उनका वाहन भी जप्त किया जायगा।
उन्होंने बताया की माननीय मुख्यमंत्री झारखण्ड द्वारा राज्य में किसी भी आपराधिक मामले, विशेषकर महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों पर पुलिस द्वारा की जाने वाली कार्रवाई के लिए किसी प्रकार की तकनीकि संसाधन एवं फंड की कोई कमी नहीं होने दिये जाने के लिये आश्वस्त किया है।
इस प्रेस वार्ता के दौरान पुलिस महानिदेशक सह महानिरीक्षक, झारखण्ड एमवीराव के अतिरिक्त अजय कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक, मुख्यालय, झारखण्ड, प्रिया दूबे, पुलिस महानिरीक्षक, प्रशिक्षण, झारखण्ड तथा साकेत कुमार सिंह, पुलिस महानिरीक्षक, अभियान -सह- प्रवक्ता, झारखण्ड पुलिस उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.