Ultimate magazine theme for WordPress.

1983, 25 जून को टीम इंडिया ने वर्ल्ड कप का ख़िताब जीतकर, रचा था इतिहास

0

टीम इंडिया ने इन दिनों वर्ल्ड कप के लिए चल रहे टूर्नामेंटों में अपना बेहतरीन प्रदर्शन कायम किया हुआ है. टीम इंडिया वर्ल्ड कप के सेमी फाइनल में पहुंचने के बहुत करीब हैं. अब तक के खेले गए सभी मैचों में टीम इंडिया ने अपना शानदार खेल खेला हैं. भारतीय टीम ने वर्ल्ड कप 2019 में अभी तक किसी भी टीम के साथ हार का सामना नहीं किया हैं.

ठीक इसी तरह से 36 वर्ष पहले 1983 में भारतीय क्रिकेट टीम ने अपनी कठिन मेहनत के बाद पहली बार वर्ल्ड कप की ट्रॉफी जीतकर भारतीय इतिहास रचा था. 1983 में इंडियन क्रिकेट टीम के कप्तान कपिल देव थे. कपिल देव की अगुआई में ही भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज को हराया था. उन दिनों जब क्रिकेट में वेस्टइंडीज को सबसे ऊपर माना जाता था. ऐसे में वेस्टइंडीज को लॉर्ड्स के मैदान में वर्ल्ड कप में हराना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात थी. भारतीय क्रिकेट टीम के लिए वर्ल्ड कप की ट्रॉफी हासिल करना किसी सपने से कम नहीं था.

वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर टीम इंडिया को बल्लेबाज़ी के लिए कहा

1983 में हुए वर्ल्ड कप में लंदन के लॉर्ड्स मैदान में वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर टीम इंडिया को बल्लेबाजी का मौका दिया तथा खुद ने गेंदबाजी करने का फैसला किया.

वेस्टइंडीज के गेंदबाजों सामने टीम इंडिया 54.4 ओवर में 183 रन ही बना पाई और आलआउट हो गई.

भारतीय टीम की तरफ से के श्रीकांत ने सबसे अधिक 38 रन, मोहिंदर अमरनाथ ने 26 रन और संदीप पाटिल ने 27 रन बनाए थे.

इंडिया के 183 रनों के लक्ष्य को पूरा करने में वेस्टइंडीज नाकामयाब रही थी. वेस्टइंडीज की पूरी टीम 52 ओवर में 140 रन पर ही ऑलआउट हो गई और 43 रनों से मैच हार गई.वेस्टइंडीज की तरफ से विवियन रिचर्ड्स ने सबसे अधिक 33 रन और जेफ डूजों ने 25 रन बनाए थे.

भारतीय टीम की ओर से जबरदस्त गेंदबाजी मदन लाल और मोहिंदर अमरनाथ ने की थी. दोनों ने ही सामने वाली टीम के 3-3 विकेट लिए थे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.