Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

इनकम टैक्स, CBI और ED की नज़र में BJP के ये 2 सांसद

0

गुरुवार को तेलगु देशम पार्टी के 4 सांसद BJP में शामिल हुए थे. BJP में शमिल हुए इन 4 सांसद में से 2 सांसद, सीएम रमेश और वाईएस चौधरी की इनकम टैक्स, CBI और ED जांच कर रही है. दोनों सांसद उद्योगपति हैं. एक कंपनी के चक्कर में इनकम टैक्स सीएम रमेश जांच कर रही है और एक बैंक से लोन की धोखाधड़ी के मामले में, CBI और ईडी ने वाईएस चौधरी को रिमांड पर लिया हुआ हैं.

इनकम टैक्स के अनुसार, ऋत्विक प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड (RPPL) नाम की एक कंपनी ने धोखाधड़ी के जरिए 74 करोड़ रुपये का चुना लगाया था, जबकि केवल कंपनी के पास 25 करोड़ रुपये का बिल हासिल किया गया था. पिछले साल अक्टूबर में, इनकम टैक्स विभाग में रमेश से जुड़ी एक कंपनी में लगभग 100 करोड़ रुपये का लेन देन पाया गया था. आयकर विभाग ने रमेश के घर की तलाशी ली थी. जिस पर तेलगु देशम पार्टी ने कड़ा विरोध किया था और इसे राजनीतिक प्रतिशोध करार दिया था. माना जा रहा हैं कि RPPL कंपनी का जुड़ाव रमेश से हैं.

वाईएस चौधरी के खिलाफ 3 FIR दर्ज़ हैं जिन पर CBI जांच कर रही है. इन FIR में चौधरी पर आरोप लगाया गया है कि विद्युत उपकरण निर्माता ‘बेस्ट एंड क्रॉम्पटन इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट्स लिमिटेड (BCEPL) ने धोखाधड़ी करके बैंकों से 360 करोड़ रुपये से अधिक का लोन लिया और फिर इस लोन को लौटने में चूक कर दी.

CBI का कहना हैं कि ये कंपनी चौधरी से जुडी हुई हैं. CBI की रिपोर्ट पर, ED ने वाईएस चौधरी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग जांच शुरू की और उनकी संपत्ति में से 315 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जप्त की. वाईएस चौधरी की जमा की गई संपत्ति में महंगी गाड़ियां शामिल हैं.

ED ने कहा कि, वाईएस चौधरी की जमा की गई संपत्ति से पता चलता हैं कि BCEPL वाईएस चौधरी के अंतर्गत चल रहा है. रमेश और वाईएस चौधरी दोनों ने अपना बचाव करते हुए कहा है कि हमने कुछ नहीं किया, हम निर्दोष हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.