Ultimate magazine theme for WordPress.

गुजरात में दो साल में 863 हिंदुओं, 35 मुसलमानों समेत 911 लोगों ने सरकार से धर्मांतरण की अनुमति मांगी

0

गुजरात में बीते दो साल में 863 हिंदुओं और 35 मुसलमानों समेत 911 लोगों ने अपने धर्मांतरण के लिए राज्य सरकार से अनुमति मांगी है, यह बात गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने विधानसभा को बताया है.

गुजरात के गृह मंत्रालय का प्रभार संभालने वाले रूपाणी ने लिखित उत्तर में दो जुलाई को यह बताया कि कुल 911 में से जिन्होंने धर्मांतरण के लिए अनुमति मांगी थी उसमे से 689 लोगों को अनुमति दी गई है.

आपको बता दें कि, गुजरात विधानसभा का बजट सत्र बीते दो जुलाई को सवाल जवाब के दौर यानि प्रश्नकाल से शुरू हुआ है.

यह जानकारी कांग्रेस के विधायकों द्वारा गृह विभाग से धर्म परिवर्तन के लिए आवेदन देने वाले लोगों की पिछले दो साल (31 मई 2019 तक) की जानकारी मांगने पर सामने आयी. इसी के जवाब में मुख्यमंत्री विजय रुपानी ने यह सूचना विधानसभा में दी.

रूपाणी ने जवाब में बताया कि 911 आवेदन पत्रों में से हिंदुओं के 863, मुसलमानों के 35, ईसाईयों के 11, खोजा समुदाय से एक और बौद्ध समुदाय से एक आवेदन मिले है.

उन्होंने आगे बताया कि धर्म परिवर्तन की अनुमति मांगने वाले हिन्दू समुदाय में सबसे अधिक संख्या सूरत जिले (474) के लोगों की है. इसके बाद जूनागढ़ (152) और आणंद (61) के हिंदुओं ने धर्मांतरण का आवेदन किया है.

बता दें कि, गुजरात धार्मिक स्वतंत्रता कानून के मुताबिक अगर कोई भी व्यक्ति धर्म परिवर्तन करना चाहता है तो उसे इसके लिए सरकारी प्राधिकारियों से अनुमति लेनी होगी है. धर्म परिवर्तन के लिए सरकारी प्राधिकारियों से अनुमति लेना अनिवार्य है. यह कानून साल 2008 में लागू किया गया था और इस कानून को जबरदस्ती धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए बनाया गया था.

Leave A Reply

Your email address will not be published.