Ultimate magazine theme for WordPress.

लिंचिंग के बढ़ते मामलों पर अनुराग कश्यप समेत 49 बड़े हस्तियों ने PM को लिखा पत्र.

0

अदूर गोपालकृष्णन, मणिरत्नम, अनुराग कश्यप और अपर्णा सेन, कोंकणा सेन शर्मा, सौमिता चटर्जी जैसे प्रतिष्ठित फिल्म निर्देशकों और अभिनेताओं ने लिंचिंग के बढ़ते मामलों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है.

कुल 49 हस्तियों ने खेद व्यक्त करते हुए पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं.और कहा गया ‘जय श्री राम’ आज एक युद्ध हत्यार बन गया है.

पत्र में यह भी कहा गया है, “राम बहुसंख्यक समुदाय के लिए पवित्र हैं, राम के नाम को नापाक करना बंद करें.”

देश में लिंचिंग के मामलों की संख्या के बारे में बात करते हुए, मशहूर हस्तियों ने कहा है, “मुसलमानों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों की लिंचिंग को तुरंत रोका जाना चाहिए.

 

लिंचिंग के बढ़ते मामलों पर अनुराग कश्यप समेत 49 बड़े हस्तियों ने PM को लिखा पत्र.
लिंचिंग के बढ़ते मामलों पर अनुराग कश्यप समेत 49 बड़े हस्तियों ने PM को लिखा पत्र.

पत्र में गया कि हम NCRB से यह जानकर हैरान रह गए कि साल 2016 में दलितों के खिलाफ 840 से कम उदाहरण नहीं हैं.

चिट्ठी में बिनायक सेन, सौमित्रो चटर्जी, रेवती, श्याम बेनेगल, शुभा मुद्गल, रूपम इस्लाम, अनुपम रॉय, परमब्रता, रिद्धि सेन के भी हस्ताक्षर शामिल हैं.

23 जुलाई को लिखे गए पत्र में कहा गया है, ” प्रधानमंत्री जी आपने संसद में इस तरह के पाखण्डों की आलोचना की है. लेकिन यह काफी नहीं है! वास्तव में अपराधियों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है?”

यह भी पढ़ें: Jharkhand Mob Lynching : तबरेज़ अंसारी की मौत हार्ट अटैक से हुई -रिपोर्ट

“अफसोस” “जय ​​श्री राम” आज एक उत्तेजक “युद्ध हत्यार” बन गया है, जो कानून और व्यवस्था की समस्याओं की ओर ले जाता है, और इसके नाम पर कई लिंचिंग होती हैं.”

इतिहासकार रामचंद्र गुहा, डॉक्टर और सामाजिक कार्यकर्ता बिनायक सेन, विद्वान और समाजशास्त्री आशीस नंदी उन लोगों में से हैं जिन्होंने पत्र पर हस्ताक्षर किया हैं.

यह भी पढ़ें: Jharkhand: सरायकेला के तबरेज अंसारी की मौत 1 बार नहीं बल्कि 3 बार हुई

पत्र में आगे कहा गया है, “असहमति के बिना कोई लोकतंत्र नहीं है.

सरकार के खिलाफ असहमति जाहिर करने वाले लोगों को राष्ट्र विरोधी या शहरी नक्सल का ब्रांड नहीं बनाया जाना चाहिए.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.Publicview.In पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.