Ultimate magazine theme for WordPress.

141 बार ‘किशोर’ ने किया रक्तदान,एशिया बुक ऑफ रिकार्ड में नाम दर्ज़

0

सहारनपुर के संत कमल किशोर 141 बार रक्तदान करके कई रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज़ करा चुके हैं. जैसा कि एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड, इंडियन बुक ऑफ रिकॉर्ड और इंडियन एचीवर बुक ऑफ रिकॉर्ड. लोगों की जिंदगी बचाने के लिए किए जाने वाले रक्तदान को महादान कहा जाता है.

18 साल की उम्र से रक्तदान करना शुरू किया

छोटे से मकान में रहने वाले कमल किशोर दिल्ली रोड स्थित अहमदबाग के निवासी साधारण जीवन जीते हैं. कमल किशोर ने पहली बार रक्तदान 1977 में पटियाला के राजकीय मेडिकल कालेज में किया था. उस समय उनकी उम्र केवल 18 वर्ष थी. कमल किशोर पटियाला में आयुर्वेद का कोर्स करने गए थे, तभी मेडिकल कॉलेज में रक्तदान शिविर लगा था.

संत कमल किशोर बताते हैं कि उस समय पूरे पटियाला से केवल 6 लोगों ने ही रक्तदान किया था. लेकिन अब ऐसा नहीं हैं. 60 वर्ष के संत कमल किशोर का कहना है कि अब तक वह 141 बार रक्तदान कर चुके हैं.

  • आखिरी बार 2 महीने पहले ही मेरठ के PL SHARMA HOSPITAL में 141वीं बार रक्तदान किया. इससे पहले उन्होंने माउंट आबू में ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय में रक्तदान किया था.
  • 29 मई 2016 में जब 126वीं बार संत कमल किशोर ने पंजाब के कपूरथला में रक्तदान किया था तो उनका नाम पहली बार इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल किया गया था.
  • इसके बाद 22 अप्रैल 2017 को 135वीं बार मध्य प्रदेश के इंदौर में रक्तदान करने पर एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड और 138वीं बार 28 मार्च 2018 को रक्तदान करने पर इंडियन एचीवर बुक ऑफ रिकॉर्ड में कमल किशोर का नाम दर्ज किया गया.

संत कमल किशोर ने अपने पिता को बचपन से रक्तदान करते देखा था. उनके पिता कहा करते थे कि रक्तदान के बाद नया खून बनता है जो कि शरीर को मजबूत और स्फूर्तिवान बनाता है. इस तरह पिता से मिली इस प्रेरणा की वजह से वह हमेशा रक्तदान करने के लिए हर समय आगे रहते हैं.

कमल किशोर ने शून्य फाउंडेशन की स्थापना की है.

संत कमल किशोर ने बताया कि पहले कभी-कभी ही रक्तदान की डिमांड आती थी, लेकिन अब रक्तदान के लिए काफी डिमांड आती हैं. ऐसे में वह अकेले यह डिमांड पूरी नहीं कर सकते. इसलिए उन्होंने शून्य फाउंडेशन की स्थापना की है. जिसमें काफी लोग जुड़े हुए हैं. जब भी किसी मरीज को जरूरत पड़ती है तो उसी ब्लड ग्रुप के व्यक्ति को रक्तदान के लिए अस्पताल भेज दिया जाता है. यह सब निशुल्क होता है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.