Ultimate magazine theme for WordPress.

Unnao Rape: CJI ने SC से पूछा,पीड़िता की माँ द्वारा लिखे गए पत्र मुझे क्यों नहीं मिले

0

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री से पूछा है कि, वह इस बारे में रिपोर्ट दें कि उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मां द्वारा लिखा गया पत्र अदालत में क्यों पहुंचा और मुझे क्यों नहीं मिला

उन्नाव बलात्कार पीड़िता के दो रिश्तेदारों की मौत और उसे गंभीर रूप से घायल करने वाले हादसे से कुछ हफ्ते पहले, पीड़िता के परिवार ने CJI को एक पत्र लिखकर कहा था कि मामले में आरोपी व्यक्तियों द्वारा कथित रूप से उनके ज़िन्दगी को खतरा है.

CJI रंजन गोगोई ने बुधवार को कहा, “आज सुबह मैंने पेपर में पढ़ा कि, उन्नाव के पीड़ित ने सुप्रीम कोर्ट को पत्र लिखा था. मुझे मंगलवार को पत्र के बारे में दी गई थी. मैंने अभी तक पत्र नहीं देखा है. वो तक मेरे पास नहीं पहुंचा है.

उन्होंने कहा कि, हम इस अत्यधिक विनाशकारी अस्थिर वातावरण के बीच कुछ रचनात्मक करने की कोशिश करते हैं और ऐसा हो जाता है.”

पीड़िता की मां ने जनवरी में भी सुप्रीम कोर्ट के समक्ष एक स्थानांतरण (Transfer) याचिका दायर की थी और कहा था कि इस मामले को लखनऊ के बजाय दिल्ली स्थानांतरित कर दिया जाए क्योंकि परिवार को खतरा है.

पीड़िता की मां का कहना था कि, “यूपी में निष्पक्ष सुनवाई नहीं होगी.”

सुप्रीम कोर्ट के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि हिंदी में लिखा गया पत्र मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के कार्यालय को मिला है, जिन्होंने अदालत के महासचिव से कहा है कि वह इसका एक नोट तैयार करें और उसके सामने रखें.

क्या था मामला ?

उन्नाव से BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर उन्नाव की एक किशोरी ने रेप का आरोप लगाया था. इस मामले में कार्यवाई नहीं होने पर पीड़िता ने आरोपी विधायक के खिलाफ मुख्यमंत्री के घर के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी.

इसके दो दिन बाद ही विधायक के भाई अतुल सिंह के पिटाई करने से रेप पीड़िता के पिता की उन्नाव जेल में मौत हो गई थी. दवाब के कारण पुलिस भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही थी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.