Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

कांग्रेस झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने केंद्र सरकार पर कृषि कानून को लेकर हमला बोला

कांग्रेस ने केंद्र सरकार को अब घेरने का काम कर रही है। कृषि कानून को लाए जाने के बाद केंद्र सरकार पर किसानों का हक छीनने का आरोप लगाया जा रहा है।

0
 
रांची। कांग्रेस ने केंद्र सरकार को अब घेरने का काम कर रही है। कृषि कानून को लाए जाने के बाद केंद्र सरकार पर किसानों का हक छीनने का आरोप  लगाया जा रहा है। इसी कड़ी में झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है। आॅनलाइर्न प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि भाजपा ने किसानों के प्रति जिम्मेदारी नहीं दिखाई, बल्कि देश में जमींदारी की प्रथा फिर से  लागू करना चाहती है। भाजपा देश की रीड की हड्डी किसान को खत्म करना चाहती है।

 

must read : https://publicview.in/chief-minister-hemant-soren-provided-food-grains-to-family/

 

हरित क्रांति लाई गई थी उसे भाजपा समाप्त करने की तैयारी में -कांग्रेस

देश में कांग्रेस के शासन में जो हरित क्रांति लाई गई थी उसे भाजपा समाप्त करने के लिए राज्यसभा और लोकसभा में तीन काले कानून पास कराएं। उसका विरोध किसान भी कर रहे हैं  कांग्रेस के साथ है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कानून से 40 हजार मंडिया खत्म हो जाएंगी। इसमें काम कर रहे लाखों लोग बेरोजगार हो जाएंगे। किसान अपनी फसल देश में कहीं भी बेच सकेगा। ऐसे में जब एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए किसानों को सोचना पड़ता है तो झारखंड का किसान पंजाब- चेन्नई या और कहीं कैसे जाएगा। कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने आशंका जाहिर की कि केंद्र सरकार शांता कुमार कमेटी की रिपोर्ट लागू करने की तैयारी में है। इसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य खत्म कर दिया जाएगा। जब कोई दर तय ही नहीं रहेगी तो ओने पौने दामों में कंपनियां और उद्योगपति किसानों से अनाज खरीदेंगे। किसानों से पहले ही यह लोग लिखित ले लेंगे कि आपके खेत की फसल वह खरीद लेंगे। कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के जरिए जिस प्रकार पूर्व में राजा और जमींदार काम करते थे, वैसे ही उद्योगपति और कंपनियां करेंगी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.