Ultimate magazine theme for WordPress.

UP में डॉक्टरों की लापरवाही से बिगड़ी मरीजों की तबियत, मरीजों ने कहा- हमें गलत इंजेक्शन लगाए गए

0

UP में पहले से ही अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी है जिसकी वजह से मरीजों को ठीक से इलाज नहीं मिल पा रहा है. हाल ही में UP के झांसी से डॉक्टरों की लापरवाही का पता चला है.

झांसी के एक अस्पताल में भर्ती कुछ रोगियों ने अस्पताल पर आरोप लगाया है कि हॉस्पिटल के कर्मचारियों ने उन्हें गलत इंजेक्शन दिया था. जिसकी वजह से उनकी तबियत सुधरने के बजाय और ज्यादा बिगड़ गयी.

मरीजों का दवा है कि हॉस्पिटल के कर्मचारियों द्वारा गलत इंजेक्शन देने के तुरंत बाद उन्हें ठण्ड लगी और बुखार हो गया. झांसी के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बीके गुप्ता ने कहा है कि अधिक तथ्यों का पता लगाने के लिए जांच की जाएगी.

इसके अलावा डॉ. बीके गुप्ता ने बताया कि नर्स ने उन्हें जानकारी दी है कि मरीजों को पहले रेंटैक इंजेक्शन दिया गया था. अब उन्हें पैरासिटामॉल और डेकोक्रॉन इंजेक्शन दिए गए हैं. इसकी जांच की जाएगी कि यह किस कारण से हुआ और यह भी जांच की जाएगी कि क्या सिरिंज की गड़बड़ी थी.

UP में स्वास्थ्य व्यवस्था खराब हो गयी है, आए दिन UP के अस्पतालों से ऐसी लापरवाही की घटना सामने आती रहती हैं. अभी कुछ दिनों पहले बुलंदशहर के पास स्थित खुर्जा के सूरजमल जटिया को एम्बुलेंस के न आने के कारण उन्हें ठेले पर ही हॉस्पिटल ले जाया गया था.

इसके अलावा खुर्जा के एक और निवासी रामश्री की पत्नी दौलत सैनी के सिर में चोट लग गई थी. इंतजार करने के बाद समय पर जब एम्बुलेंस नहीं पहुंची तो परिवार वालों ने मरीज को ठेले पर लिटाकर ही बिना देर किए अस्पताल ले जाना उचित समझा.

महिला के परिजनों का आरोप था कि अस्पताल में गरीबों की कोई सुनवाई नहीं हाेती है और न ही ठीक ढंग से इलाज मिलता है लेकिन इस अस्पताल में इलाज कराना उनकी मजबूरी थी.

इस तरीके से UP के अस्पतालों की लापरवाही आए दिन देखने को मिलती रहती हैं. मरीजों के साथ ऐसी लापरवाही करना क्या उचित है.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए  www.Publicview.In पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.