Ultimate magazine theme for WordPress.

कैसे होती है वोटों की गिनती, जानिए क्या है पूरी प्रक्रिया

0

देश में एक महीने से भी अधिक वक़्त तक चले सात चरणों में हुए मतदान के बाद आज चुनाव परिणाम सबके सामने होगा.

पूरे देश में सात चरणों में चुनाव हुए. पहले दौर का मतदान 11 अप्रैल और आखिरी दौर का मतदान 19 मई को हुआ.

इन तरीकों पर हुए चुनाव

11 अप्रैल , 18 अप्रैल, 23 अप्रैल, 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई, 19 मई।

17वीं लोकसभा चुनाव के लिए सात चरणों में 542 सीटों के लिए हुए चुनाव की गिनती गुरुवार सुबह आठ बजे से शुरू होगी.

चुनाव मैदान में करीब 8,000 से अधिक प्रत्याशी थे खड़े.

इस लोकसभा चुनाव में देश में पहली बार वीवीपैट का इस्तेमाल हुआ जिसकी वजह से रिजल्ट में कुछ घंटों की देरी हो सकती है.

इस चुनाव के मतगणना दे पहले विपक्षी पार्टियों द्वारा EVM को लेकर अटकलें लगाई जा रही थी. पार्टियों का आरोप था कि राज्यों में बिना सुरक्षा के ईवीएम को इधर से उधर किया जा रहा है. लेकिन इसे आयोग ने बेबुनियाद बता ख़ारिज़ कर दिया.

क्या होती है मतगणना की प्रक्रिया

  • वोटों की गिनती में सबसे पहले रिटर्निंग अफ़सर और उनके सहयोगी सबके सामने वोटों की गोपनीयता की शपथ लेते हैं.
  • मतगणना शुरू होने के पहले रिटर्निंग अफ़सर के नज़र के सामने में सभी ईवीएम की जांच की जाती है.
  • चुनाव में खड़े राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों को अपने काउंटिंग एजेंटों के साथ मतगणना केंद्रों में मौजूद रहने का अधिकार है. काउंटिंग एजेंट वोटों की गिनती को देख सकते हैं.
  • सबसे पहले पोस्टल मतपत्रों की गिनती की जाती है और इसके बाद ईवीएम की गिनती होती है.
  • फिर EVM की गिनती ख़त्म होने के बाद VVPAT पर्चियों से मिलाया जाएगा. इसके लिए हर काउंटिंग हॉल में अलग से VVPAT बूथ होगा.
  • यदि मतगणना में किसी भी तरीके की रुकावट या मसला होता होता है तो, चुनाव आयोग को उसकी खबर करना रिटर्निंग अफसर की जिम्मेदारी है.
  • ऐसे में चुनाव आयोग शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए या तो मतगणना को जारी रखने का, मतगणना रद्द करने और फिर से मतदान का आदेश दे सकता है.
  • और अगर सब कुछ ठीक रहा कोई दिक्कत परेशानी नहीं आई तो रिटर्निंग ऑफिसर चुनाव परिणाम का घोसित कर सकता है.
  • इस लोकसभा चुनाव में तकरीबन 39.6 लाख EVM और 17.4 लाख VVPAT मशीनें इस्तेमाल हुई हैं, जिनमें रिज़र्व मशीनें भी शामिल हैं.

चुनाव आयोग ने इस बार एक ऐप ‘सुविधा’ लॉंच की है जिस पर मतगणना केंद्रों के नतीज़ों को देखा जा सकता है.

इस लोकसभा चुनाव में करीब 82 करोड़ मतदाताओं के नाम वोटर लिस्ट में शामिल थें. देश के पहले आम चुनाव के मुकाबले इस बार मतदाताओं की संख्या में पांच गुना बढ़ोतरी हुई है. वोट देने वालों की संख्या में इस बीच खासा इजाफा हुआ है.

देश और राज्य के खबरों के उपडेट के लिये आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं

Leave A Reply

Your email address will not be published.