Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

मैं तब तक मर जाऊंगा: किडनी के मरीज़ को नवंबर 2021 मिला ऑपरेशन का तारीख

0

श्रीनगर के एक सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों ने नवंबर 2021 में किडनी के संक्रमण वाले एक मरीज की सर्जरी निर्धारित की है.

दक्षिण कश्मीर जिले पुलवामा के रहमू क्षेत्र के निवासी अब्दुल अहद वानी (50) ने कहा, “मैं किडनी के संक्रमण से पीड़ित हूं. 2012 में, मेरा पहली बार दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के एक निजी अस्पताल में एक डॉक्टर ने ऑपरेशन किया था, जिसके लिए मैंने 30,000 रुपये भुगतान किया था. लेकिन कुछ वक़्त के बाद मुझे किडनी को लेकर परेशानी होने लगी.

फिर मैं पुलवामा के एक सरकारी अस्पताल में गया, जिसने मुझे श्रीनगर रेफर किया.”

“श्रीनगर के कई अस्पतालों में अलग अलग डॉक्टरों से मिलने के बाद, मैं श्री महाराजा हरि सिंह अस्पताल आया, वहां से आखिरकार मुझे सरकारी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल श्रीनगर रेफर कर दिया गया.”

अब्दुल अहद वानी ने श्रीनगर में जम्मू-कश्मीर के गवर्नर की शिकायत सेल को अपनी शिकायत भी की. अब्दुल वानी ने कहा कि वह पेशे से एक मजदूर है. वानी ने आगे कहा कि उन्होंने अब तक टेस्ट और इलाज में भारी पैसा खर्च कर चुके हैं.

उन्होंने कहा, “मैं बहुत गरीब हूं और मेरे चार बच्चे हैं. केवल भगवान ही जानता है कि मैंने अब तक कैसे मैंने अभी तक सब कुछ मैनेज(प्रबंध) किया है.”

अब्दुल के किडनी का ऑपरेशन होना है, वो हॉस्पिटल गए डॉक्टर से मिले और ऑपरेशन की तारीख भी मिली. लेकिन तारीख ऐसा की अब्दुल हैरान हो गए. कोई भी हरण हो जाता.

अब्दुल की ज़ुबानी ही सुनते हैं, “ऑपरेशन की तारीख देखकर मैं हैरान था. जब मैंने उनसे तर्क किया कि यह बहुत देर है और मैं तब तक ज़िंदा नहीं रह सकता, तो उन्होंने (डॉक्टरों) कहा,” यह अस्पताल केवल आपके लिए या विशेष जिले के निवासियों के लिए नहीं है, यह अस्पताल राज्य के सभी हिस्सों से मरीजों का इलाज करता है.”

अब्दुल ने डॉक्टरों से भी विनती की और उन्हें कहा कि वे तब तक ज़िंदा नहीं रह सकते, लेकिन सभी रेजिडेंट डॉक्टर थे और कहा कि वे इस मामले में कुछ नहीं कर सकते क्योंकि उनकी तारीखें पहले से ही बुक हैं.

“मैंने उनके सामने काफी गिड़गिड़ाया और उनसे गुज़ारिश की कि जब तक सर्जरी के लिए मेरी बारी आएगी, तब मैं मर हुआ रहूंगा. मेरी दूसरी किडनी भी प्रभावित होगी. डॉक्टरों ने कहा कि हम कुछ नहीं कर सकते, यहां तारीखें बुक हैं.”

हालांकि गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज श्रीनगर के प्रिंसिपल से इस मामले में कोई संपर्क नहीं हो पाया है.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.