Ultimate magazine theme for WordPress.

जिस अस्पताल में चल रहा था चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों का इलाज, वहीं मिले मानव कंकाल

0

बिहार के मुजफ्फरपुर में श्री कृष्ण अस्पताल के पीछे बड़ी मात्रा में मानव कंकाल पाए गए हैं. मुजफ्फरपुर के इसी हॉस्पिटल में कई दिनों से चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों का इलाज चल रहा हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि लावारिस लाशों का पोस्टमार्टम करके उनकी लाशों को बिना अंतिम संस्कार के ही अस्पताल के पीछे फेंक दिया जाता हैं. अस्पताल के पीछे मानव कंकाल के साथ साथ महिला
व पुरुषों के कपड़े भी फेंके पड़े मिले हैं.

अस्पताल के पीछे की खबर का खुलासा होने के बाद मुजफ्फरपुर जिले के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने जांच के आदेश दिए है और अस्पताल प्रशासन से इस मामले के संबंध में रिपोर्ट की मांग की है. अस्पताल के पीछे मानव कंकाल मिलने के बाद SKMCH के अधीक्षक एस.के. शाही ने कहा कि वह अस्पताल के पोस्टमार्टम हाउस के प्रिंसिपल से बात करेंगे और जांच समिति को इकट्ठा कर मामले की जांच करने को कहेंगे. एस.के.शाही ने कहा कि हॉस्पिटल में इस तरह की लापरवाही क्यों हो रही है. किसी भी लावारिश के शव का अंतिम संस्कार करना चाहिए न कि उसके शव को फेंक देना चाहिए.

इससे पहले भी मानव कंकाल का खुलासा हो चूका है

SKMCH में लगभग ढाई साल पहले मानव कंकालों की तस्करी का खुलासा हुआ था. एक मीडिया स्टिंग ऑपरेशन में खुलासा किया गया था कि शवों के कंकालों का अवैध व्यापार किया जाता है.

स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया गया था कि पोस्टमॉर्टम हाउस में काम करने वाले निजी सफाई कर्मचारी हरेक मानव कंकाल को गैरक़ानूनी तरीके से 8,000 रुपये में बेचते थे. शवों का अंतिम संस्कार करने की बजाय वह शरीर से मांसपेशियां और चमड़ा हटाकर उन्हें अवैध व्यापार के लिए इकठ्ठा करके रखा जाता था और फिर बेच दिया जाता था.

मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से करीब 150 बच्चों की जान चली गयी. चमकी बुखार से गयी जान के पीछे की वजह ज्यादातर डॉक्टर्स की कमी, बिस्तर तथा दवाइयों का न होना है. चमकी बुखार से पीड़ित ज्यादातर सभी बच्चों का इलाज इसी अस्पताल में हो रहा है.

चमकी बुखार के चलते मुजफ्फरपुर का श्री कृष्ण अस्पताल कई दिनों से चर्चाओं में था और अब उसी हॉस्पिटल में मानव कंकाल मिलने के बाद, अस्पताल की जांच के लिए आदेश दिए गए हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.