Ultimate magazine theme for WordPress.

इसरो ने दी खुशखबरी : सुरक्षित है चंद्रयान -2 का विक्रम लैंडर, संपर्क की कोशिश जारी

0

इसरो ने चंद्रयान -2 को लेकर खुशखबरी दी है. इसरो ने बताया कि विक्रम लैंडर सुरक्षित है और किसी भी प्रकार की टूट फूट या कोई हानि नहीं हुई है. इसरो के एक अधिकारी ने कहा कि हम लैंडर के साथ फिर से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं.

 

वैज्ञानिकों ने कहा कि हमने उम्मीद नहीं छोड़ी है, विक्रम से संपर्क टूटा है लेकिन उम्मीद नहीं..चांद की सतह पर विक्रम लैंडर के गिरने से इसरो अभी निराश नहीं हुआ है.

 

इससे पहले रविवार को भी विक्रम के लोकेशन का पता इसरो को चला था. सोमवार और रविवार को विक्रम की लोकेशन पता चलने के बाद उससे संपर्क की उम्मीदें एक बार फिर जिंदा हो चुकी हैं.

 

दोबारा अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है विक्रम

 

दरअसल, इसरो के सूत्रों के मुताबिक चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर में वह टेक्नोलॉजी है जिससे वह गिरने के बाद भी खुद को खड़ा कर सकता है, लेकिन उसके लिए जरूरी है कि उसके कम्युनिकेशन सिस्टम से संपर्क हो जाए और उसे कमांड रिसीव हो सके.

 

हालांकि, इस काम के सफल होने की उम्मीदें सिर्फ 1 फीसदी ही है लेकिन इसरो वैज्ञानिकों का मानना है कि कम से कम एक प्रतिशत ही सही, लेकिन उम्मीद तो है.

 

आपको बता दें कि चंद्रयान 2 शुक्रवार देर रात चांद से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर आकर कहीं खो गया था. जिसके बाद 40 घंटों के अंदर इसरो ने विक्रम लैंडर को खोज निकाला. इसरो विक्रम लैंडर से संपर्क करने की कोशिशों में जुटा है.

 

11 दिन बाकि विक्रम के साथ संपर्क के लिए

 

विक्रम लैंडर के अपने तय स्थान पर नहीं पहुंचने के बाद इसरो चीफ ने कहा कि अभी भी उम्मीद बाकि है, हम अगले 14 दिनों तक लैंडर के साथ संपर्क साधने की कोशिश करते करेंगे. जिसमें 3 दिन हो चुके है अब महज़ 11 दिन ही संपर्क साधने के लिए बचे है.

 

एक अनुमान के मुताबिक इसरो के पास विक्रम से संपर्क साधने के लिए 11 दिन हैं. क्योंकि अभी लूनर डे चल रहा है. एक लूनर डे धरती के 14 दिनों के बराबर होता है. इसमें से 3 दिन बीत चुके हैं. यानी अगले 11 दिनों तक चांद पर दिन रहेगा. उसके बाद चांद पर रात हो जाएगी, जो पृथ्वी के 14 दिन के बराबर होती है. रात में उससे संपर्क करने में दिक्कत होगी. फिर इसरो वैज्ञानिकों को इंतज़ार करना पड़ेगा.

 

अब देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.