Ultimate magazine theme for WordPress.

यह मेरी गलती नहीं है कि मैं समलैंगिक पैदा हुआ, 20 वर्षीय अभिनाशु ने आत्महत्या से पहले फेसबुक पर लिखा

0

सितंबर 2018 में समलैंगिक यौन संबंध बनाने वाले भारतीय दंड संहिता की धारा 377 को रद्द करने के बावजूद हमारा समाज LGBTQ समुदाय के लोगों को अपना मैंने के लिए तैयार नहीं है.

उन्हें अभी भी समाज के एक बड़े वर्ग द्वारा दोहरी नज़र से देखा जाता है और उनका मज़ाक उड़ाया जाता है, जबकि उन्हें धर्म गुरु मदद से तथा कई तरीके से कुछ माता-पिता उनके व्यवहार को ‘सही’ करने की कोशिश करते हैं. जब कि यह अक्सर उन्हें मानसिक आघात की स्थिति में लाकर खड़ा कर देता है.

इस तरह के एक और दुखद मामले में, एक 20 वर्षीय लड़के ने परेशान होने के बाद आत्महत्या कर ली और उसे यौन अभिविन्यास के लिए तंग किया गया था.

मुंबई के रहने वाले अविनाशु पटेल जो पिछले तीन महीनों से चेन्नई में काम कर रहे थे, 2 जुलाई को मृत पाए गए.

इससे पहले कि अविनाशु ज़हर खाकर दुनियां को अलविदा कहता, अविनाशु, अपने दोस्तों के लिए अपने फेसबुक प्रोफाइल पर एक लंबी, भावुक पोस्ट लिखी, जिसमें उसने समलैंगिक होने के लिए किए गए उत्पीड़न और दर्द का ज़िक्र किया है.

उसने लिखा,
“हर कोई जानता है कि मैं एक लड़का हूं, लेकिन जिस तरह से मैं चलता हूं, सोचता हूं और बात करता हूं वह एक लड़की की तरह है. भारत में लोगों को यह पसंद नहीं है, फेसबुक पोस्ट पढ़ें. कृपया मेरे परिवार को दोष न दें. उनकी मदद करें. हम गरीब हैं.” मेरी मम्मी, पापा और बहन से प्यार करो. मैं उन्हें मेरा साथ देने के लिए धन्यवाद देता हूं. यह मेरी गलती नहीं है कि मैं समलैंगिक पैदा हुआ.

Thanks u so much guys loved me and hate alsoI'm gay That's way I don't for myself And my family also know I liked…

Posted by Avi Patel on Tuesday, July 2, 2019

फेसबुक पोस्ट में, उसने अपने परिवार और दोस्तों से माफी मांगी और उन्हें जाने के बाद अपने परिवार का साथ देने गुज़ारिश की.

वह अपनी लंबी पोस्ट को यह उम्मीद जताकर समाप्त करता है कि, अगले जन्म में वह एक आदर्श लड़का या आदर्श लड़की पैदा हो.

खबरों के मुताबिक, अविनाशु चेन्नई में काम कर रहा था और जिस दिन उसने आत्महत्या की, उसी दिन उसने मुंबई में एक दोस्त से संपर्क किया था.

Leave A Reply

Your email address will not be published.