Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

Jharkhand mob lynching : तबरेज़ अंसारी की मौत हार्ट अटैक से हुई -रिपोर्ट

0

झारखंड के सरायकेला-खरसांवा के धातकीडीह गांव में 17 जून को तबरेज़ अंसारी को चोरी के आरोप में गांव के लोगों ने पकड़ कर उसे दम तक मारा था.

18 जून को पुलिस ने तबरेज़ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. इस दौरान तबरेज़ की तबियत बिगड़ गई और 22 जून को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

तबरेज़ के मौत के बाद देश का माहौल तनावपूर्ण हो गया था और सभी मौत की वजह तलाशने में जूट गए.

एक समाचार संस्थान के मुताबिक, मामले में स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को डीसी ए. दोड्डे को बिसरा रिपोर्ट सौंप दी है.

रिपोर्ट में तबरेज की मौत का कारण तनाव के वजह से हार्ट अटैक बताया गया है. अन्य किसी वजह से मौत की पुष्टि नहीं की गयी है.

रिपोर्ट के मुताबिक, पोस्टमार्टम के बाद तबरेज का बिसरा सुरक्षित रख लिया गया था, जिसे जांच के लिए रांची भेजा गया था.

रांची प्रयोगशाला में जांच के बाद रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को भेज दिया गया. इसके बाद रिपोर्ट डीसी को सौंपी गयी.

वहीं चिकित्सकों का मानना है कि तबरेज घटना के बाद तनाव में रहा होगा और अंदरूनी चोट की वजह से भी हार्ट अटैक आया.

मामले में शामिल सभी 11 आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल किया है. इनमें प्रकाश मंडल, कमल महतो, सुमंत महतो, नामो प्रधान, भीमसेन मंडल, प्रेमचंद महली, महेश महली, कुशल महली, चामू नायक व सत्यनारायण नायक समेत शामिल हैं.

क्या था मामला

झारखंड के सरायकेला-खरसांवा के धातकीडीह गांव में 17 जून को तबरेज़ अंसारी को चोरी के आरोप में गांव के लोगों ने पकड़ लिया था.

यह भी पढ़ें : Jharkhand: सरायकेला के तबरेज अंसारी की मौत 1 बार नहीं बल्कि 3 बार हुई

घटना का एक वीडियो सामने आया था जिसके मुताबिक उसे बेरहमी से पीटा गया, साथ ही उससे “जय श्री राम” के नारे लगवाए गए.

अगले ही दिन यानि 18 जून को पुलिस ने तबरेज़ को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. इस दौरान तबरेज़ की तबियत बिगड़ गई और 22 जून को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

एक रिपोर्ट में सामने आया था कि , घटना के बाद 18 जून की सुबह तबरेज को जांच के लिए अस्पताल लाया गया लेकिन अस्पताल में न तो तबरेज के खून की जांच की गयी और न ही अल्ट्रासाउंड किया गया. तब तबरेज का जांच डॉ. ओ पी केसरी कर रहे थे.

उसके उन्होंने रिपोर्ट में मल्टीपल इंजरी लिख कर पुलिस को तबरेज को जेल ले जाने दिया.

ओपी केशरी ने रिपोर्ट में बस घुटने का एक्सरे लिख दिया.

मजिस्ट्रेट के सामने पेश होने से पहले शाम को तबरेज को मेडिकल चेकअप के लिए वापस अस्पताल लाया गया. इस बार तबरेज को देखने वाले डॉ. थे शाहिद अनवर.

उन्होंने ने भी बस घुटने का एक्सरे किया और दूसरा कोई जांच नहीं. और फिर डॉ. शाहिद अनवर के कलम ने तबरेज को पूरे तरह से फिट लिख दिया और पुलिस उसे वापस जेल ले गयी.

डीसी ने दोषी पदाधिकारियों पर कार्रवाई का दिया निर्देश

डीसी ए. दोड्डे ने SP एस कार्तिक, CS डॉ हिमांशु भूषण बरवार को पत्र लिखकर तबरेज अंसारी मामले में दोषी पदाधिकारियों पर कार्रवाई करने को कहा है.

लिखे गये पत्र के मुताबिक, तबरेज अंसारी मामले में जिन अधिकारियों ने लापरवाही बरती है या एसआइटी की जांच में दोषी करार दिये गये हैं, उनके खिलाफ अविलंब कार्रवाई होगी.

यह भी पढ़ें : झारखंड में Mob Lynching के बाद बीजेपी नेता सीपी सिंह का बयान, कहा BJP को बदनाम करने का चलन शुरू

यह भी पढ़ें: झारखंड: सत्र का दूसरा दिन, मॉब लिचिंग और अन्य मुद्दों पर विपक्ष करेगी सवाल

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.Publicview.In पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.