Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019: BJP मस्त CONG परेशान JMM हैरान, क्या चल रहा है ?

0

लोकसभा सत्र ख़त्म होने के बाद अब बारी है झारखंड विधानसभा चुनाव. मैं आज आपको आसान हल्के-फुल्के भाषा में समझाऊंगा कि आखिर झारखंड के राजनीतिक गलियारे में चल क्या रहा है.

भारतीय जनता के पार्टी को सामने रख कर देखें तो सब कुछ आरामदायक और व्यवस्थित तरीके से चुनाव की तैयारी चल रही है. बोला जाए तो एकदम मक्खन की तरह. उदहारण के तौर पर पार्टी का चेहरा राज्य के मुख्यमंत्री ने नारा दिया कि अबकी बार 65 पार.

अब आगामी झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने अपना चुनाव प्रभारी और सह चुनाव प्रभारी भी चुन लिया है.

साथ ही भारतीय जनता पार्टी ने झारखंड चुनाव को लेकर सर्वे करना भी शुरू कर दिया है. वहीं भाजपा के तरफ से यह भी खबर आ रही है कि, इस बार के विधानसभा चुनाव में पार्टी कई नए चेहरों को मैदान में उतारेगी.

चलिए अब अपनी चुनावी नुक्कड़ होते हुए हम कांग्रेस के मोहल्ले में चलते हैं. यहां बहुत कुछ हो रहा है. पार्टी के भीतर ही नेताओं के बीच झगड़े चल रहे हैं. एक दूसरे पर आरोप लग रहे हैं. ये झगड़ा बिलकुल वैसा है ही जैसा की भारतीय परिवार में ननद-जेठानी के बीच होता है.

वहीँ इस झगड़े की दास्तां के सबसे अहम् पात्र पूर्व झारखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने चुनाव से दो महीना पहले पार्टी के नेताओं पर आरोप लगाते हुए अध्यक्ष पद को टाटा-बाय बाय कह दिया.

इसका मतलब झारखंड विधानसभा चुनाव में महज़ दो महीने ही बचें हैं और कांग्रेस के पास इस चुनाव में निर्णय लेने वाला या पार्टी का सेनापति नहीं है.

सूत्रों की मानें तो डॉ.अजय कुमार बहुत जल्द राहुल गाँधी से मुलाकात कर सकते हैं और उसके बाद उन्हें राज्य में फिर से पार्टी की बागडोर दी जा सकती है. तो फिलहाल कांग्रेस के लिए स्थिति डामाडोल ही नज़र आ रही है.

भारतीय जनता पार्टी झारखंड के इतिहास में पहली ऐसी पार्टी है जो अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा करने जा रही है. लोकसभा चुनाव परिणाम को देखते हुए कई राजनीतिक जानकार बता रहे हैं की विधानसभा चुनाव में भी भाजपा का पलड़ा भारी नज़र आ रहा है.

वहीं एक खबर यह भी आ रही है कि कांग्रेस और JMM यानि झारखंड मुक्ति मोर्चा के कई नेता भारतीय जनता पार्टी के संपर्क में हैं. यदि आप किसी को न बताओ तो एक और गुप्त जानकारी दूं आपको, इसमें कई बड़े नेता और विधायक शामिल हैं. लेकिन ये बात आप बस अपने तक रखना. बड़े ही खास आदमी ने ये जानकारी दी है.

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी की राज्य में हमजोली पार्टी AJSU पार्टी के मुखिया सुदेश महतो अपने पारम्परिक सिल्ली विधानसभा क्षेत्र को छोड़ कर किसी दूसरे जगह का रुख कर सकते हैं. जब सीट की बात निकल ही पड़ी है तो आपको बता दें कि इसबार रांची सीट पर भी कई नेता अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं. साफ़ है रांची के विधायक जी के लिए यह चुनाव अग्नि परीक्षा से कम नहीं होगा.

अब चलते राज्य के पहले मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की पार्टी JVM के आंगन में, पार्टी के मुखिया फिलहाल राज्य के आउटडेटेड नेताओं को इक्कट्ठा करने में लगे हैं. शायद इससे पार्टी में थोड़ी बहुत जान आ जाए.

खबर यह भी है कि रांची में रहते हुए RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव झारखंड चुनाव में RJD को नए तरीके से सींचने की तैयारी कर रहे हैं, इन्हें अभी भी लगता है इनका MY समीकरण अभी भी ज़िंदा है.

बाकी आप पाठक भी जनता जनार्दन हैं सोच समझ कर फैसला लीजिये और महाभारत के संजय की तरह चुनाव से पहले दूर से दर्शन करते रहें और समझते रहे हैं.

मेरे ख्याल से इस खबर को पढ़ कर आपको झारखंड के राजनीतिक गलियारों में चलने वाली हवा का अंदाज़ा हो गया होगा.

चलिए इसी के साथ मैं आपसे विदा लेता हूं और आपसे निवेदन करता हूं कि आप publicview.in को subscribe करें और अपनी सेवा करने का मौका प्रदान करें.

Leave A Reply

Your email address will not be published.