Ultimate magazine theme for WordPress.

150 साल तक जीना चाहते थे किंग ऑफ़ पॉप माइकल जैक्सन

0

माइकल जैक्सन जिन्हें किंग ऑफ़ पॉप कहा जाता था. उन्हें 20 वीं शताब्दी के सबसे बड़े पब्लिक फिगर में से एक माना जाता है, माइकल सबसे महान मनोरंजनकर्ताओं में से एक थे. जैक्सन के गाने, नृत्य, और फैशन के योगदान ने उन्हें दुनिया भर में बहुत बड़ी शख्सियत बना दिया.

माइकल जैक्सन का जन्म 28 अगस्त 1958 को हुआ था माइकल अपने माता पिता के 8वें संतान थे.

हालांकि ये सारी बातें तो लगभग हर किसी को मालूम होगी जो पॉप गाने और माइकल जैक्सन में दिलचस्पी रखते हैं, लेकिन क्या आपको मालूम है कि माइकल जैक्सन का एक सपना था और सपना था कि वो 150 साल तक जीना चाहते थे.

जी हां किंग ऑफ़ पॉप माइकल जैक्सन 150 साल तक जीना चाहते थे.

उन्होंने घर पर 12 डॉक्टर थे जो उनकी रोजाना बाल से लेकर पैर के अंगूठे तक की जांच करते थे.

खाना परोसे जाने से पहले उनका भोजन हमेशा प्रयोगशाला में परीक्षण किया जाता था.

उनके दैनिक व्यायाम और कसरत को देखने के लिए 15 लोगों को रखा गया था.

उनके बिस्तर में ऑक्सीजन स्तर को विनियमित करने की तकनीक थी.

अंग दाताओं को तैयार रखा गया था ताकि जब भी जरूरत हो वे तुरंत अपने अंग दान कर सकें. माइकल जैक्सन द्वारा इन दाताओं के रखरखाव का ध्यान रखा जाता था.

वह 150 साल तक जीने के सपने के साथ आगे बढ़ रहे थे. लेकिन उनका सपना, सपना ही रह गया.

25 जून 2009 को, 50 वर्ष की आयु में, उनके दिल ने काम करना बंद कर दिया. उन 12 डॉक्टरों के निरंतर प्रयास से भी सफल नहीं हो पाया.

यहां तक कि, लॉस एंजिल्स और कैलिफोर्निया के डॉक्टरों के संयुक्त प्रयास भी उन्हें बचा नहीं सका.

जैक्सन की अंतिम यात्रा को 2.5 मिलियन लोगों द्वारा लाइव देखा गया था जो अब तक का सबसे लंबा लाइव टेलीकास्ट है.

जिस दिन उनकी मृत्यु हुई, यानी 25 जून 2009 को दोपहर 3.15 बजे, विकिपीडिया, ट्विटर, एओएल के इंस्टेंट मैसेंजर ने काम करना बंद कर दिया। लाखों लोगों ने मिलकर माइकल जैक्सन को Google पर सर्च किया.

जैक्सन ने मौत को चुनौती देने की कोशिश की, लेकिन मौत ने उन्हें चुनौती दे दी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.