Ultimate magazine theme for WordPress.

जानिए क्यों 6 महीने में एक बार खून देना सेहत के लिए जरूरी हैं

0

रक्तदान करना सबसे बड़ा दान माना जाता हैं लेकिन फिर भी लोग रक्तदान करने से डरते हैं. लोगों ने रक्तदान को लेकर अपने मन में गलत धारणा बना रखी हैं. जबकि रक्तदान की वजह से एक साथ 3 लोगों की जान बचाई जा सकती हैं. 6 महीने में एक बार खून देना अच्छी सेहत के लिए बहुत जरूरी है, क्यूँकि जो लोग खून नहीं देते वह ज्यादा बीमार पड़ते हैं.

रक्तदान के फायदे

रक्तदान से जरूरतमंद लोगों की मदद की जा सकती हैं जैसेकि कई बार ऐसे बीमार मरीज होते हैं, जिन्हें खून की जरूरत पड़ती है. इसके अलावा कई बार ऑपरेशन वाले मरीज होते हैं जिन्हे खून की आवश्यकता होती हैं.

सुरक्षित रक्तदान की प्रक्रिया

  • रक्तदान हमेशा प्रशिक्षित डॉक्टरों की निगरानी में होता हैं.
  • इसमें प्रयुक्त नली, सुई आदि को संक्रमणरहित करके ही खून लिया या चढ़ाया जाता है.
  • यह सोचना कि इससे किसी तरह का इन्फेक्शन हो सकता है, गलत है.

लोगों में रक्तदान को लेकर गलत विचार उत्पन्न होना

रक्तदान को लेकर मनुष्यों ने अपने दिमाग में गलत धारणाएं बनाई हुई हैं कि, अगर वह रक्तदान करते हैं तो उन्हें कमजोरी का एहसास होगा. वह रोजाना ठीक से काम नहीं कर पाएंगे.

ऐसा नहीं हैं रक्तदान के बाद कमजोरी होना स्वाभाविक है. लेकिन अगर आप लगातार पौष्टिक आहार लेते रहते हैं तो आपको इस तरह की कोई परेशानी नहीं होगी.

रक्तदान से रोजमर्रा के काम करने में कोई परेशानी नहीं आती हैं.

रक्तदान से शरीर में खून की कमी नहीं होती, बल्कि खून तेजी से बनता है.

रक्तदान करते समय इन बातों का रखें ध्यान

रक्तदान से पहले कुछ पौष्टिक आहार लेना चाहिए तथा रक्तदान के बाद दिए गए नाश्ते को अवश्य खाना चाहिए. इसी के साथ साथ रक्तदान करने के 48 घंटे पहले तक किसी भी तरीके के नशीलें पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए.

18 साल से 68 वर्ष तक की उम्र के लोग रक्तदान कर सकते हैं लेकिन इनका वजन कम से कम 45 किलो या उससे अधिक होना चाहिए.

Leave A Reply

Your email address will not be published.