Ultimate magazine theme for WordPress.

जानिए आखिर अगस्त के महीने में ही क्यों Friendship Day मनाया जाता हैं?

0

Friendship Day यानि दोस्तों के साथ दोस्ती को सेलिब्रेट करने का दिन. इस साल फ्रेंडशिप डे 4 अगस्त को मनाया जा रहा हैं. दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिसे खून के रिश्ते की जरूरत नहीं होती. लेकिन आपने कभी सोचा हैं कि आखिर Friendship Day को अगस्त में ही क्यों मनाया जाता हैं? हम आपको बताते है कि Friendship Day की शुरुआत किसने की.

Friendship Day की कहानी

साल 1930 को जोएस हाल नाम के एक व्यापारी ने एक दिन ऐसा रखा जिस दिन सभी दोस्त एक दूसरे के साथ मिलकर सेलीब्रेट करेंगे और आपस में एक- दूसरे को कार्ड देंगे.

इस खास दिन को मनाने के लिए 2 अगस्त का दिन निर्धारित किया गया. यूरोप और एशिया के बहुत से देशों ने इस परंपरा को आगे बढ़ाया और Friendship Day मनाते रहे.

वर्ल्ड फ्रेंडशिप डे को मनाने के लिए यूनाइटेड नेशन्स को 30 जुलाई का दिन रखने के लिए कहा गया. यूएन के जनरल सेक्रेटरी कोफी अन्नान ने विनी द पू को Friendship Day का ब्रांड एम्बेसडर बनाया.

इस तरह से 30 जुलाई के दिन युनाइटेड नेशन Friendship Day मनाता आ रहा है. लेकिन बहुत से देश जैसे भारत ने Friendship Day मनाने के लिए अगस्त का पहला सप्ताह चुना.

पश्चिमी देशों ने की शुरुआत

Friendship Day की शुरुआत पश्चिमी देशों से हुई लेकिन देखते देखते ही एशियाई देशों में भी काफी लोकप्रिय हो गया जैसे कि भारत में. Friendship Day को पहली बार अमेरिका में मनाया गया था. इस अवसर पर दोस्तों को फ्रेंडशिप बैंड, कार्ड, गिफ्ट्स दिए जाते हैं.

सोशल मीडिया पर फ्रेंडशिप ट्रेंड में

सोशल मीडिया पर Friendship Day हर वर्ष जोर- शोर से मनाया जाता है. फ्रेंडशिप को लेकर युवा में काफी उत्साह रहता हैं. इंस्टाग्राम से लेकर ट्विटर और फेसबुक हर जगह फ्रेंडशिप डे का ट्रेंड है.

जिस तरह से एक दिन मदर्स डे, फादर्स डे के लिए समर्पित किया गया है उसी तरह से एक दिन दोस्तों के लिए रखा गया है. इस दिन को यादगार बनाने के लिए दोस्त एक-दूसरे को फ्रेंडशिप बैंड बांधते है.

दिनभर दोस्तों के साथ पूरा वक्त बिताते है. अपनी दोस्ती को आगे तक ले जाने और किसी भी मुसीबत में एक दूसरे का साथ न छोड़ने का वादा करते हैं.

दोस्त से दूर होने पर करें मैसेज

अगर आप Friendship Day पर अपने दोस्त से दूर हैं तो आप उन्हें कुछ इस तरह की कविता लिखकर मैसेज कर सकते हैँ और फ्रेंडशिप डे की बधाई दे सकते हैँ.

कुछ पल की बातें,
कैसे दोस्ती में बदल गई पता नहीं चला

कुछ हंसाने कुछ तराने याद आते है,
तेरे साथ बिताए हुए सारे पल याद आते

ए दोस्त मैं जब तेरे साथ होता था,
तो पता नहीं कब सुबह से शाम हो जाती थी

अब हर पल ऐसा लगता है ए दोस्त,
जैसे समय रुक सा गया है

राह में चलते चलते मंजिलें तो मिल गई,
लेकिन तेरी दोस्ती छूट गई

बचपन में देखे गए ख्वाब सब पूरे हो गए,
लेकिन तेरे बिना सब अधूरे से लगते है

ए मेरे दोस्त एक बार फिर लौट आ,
फिर से वो बचपन के पल जीते है.

दोस्तों का जीवन में बहुत महत्व होता है इसलिए जिंदगी में अपने दोस्तों का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.