Ultimate magazine theme for WordPress.
Medha Milk

पिछले 3 महीने,132 गांव में जन्में 216 बच्चे, लेकिन कोई नवजात शिशु लड़की नहीं

0

उत्तराखंड: उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में कितने नवजात शिशुओं का जन्म हुआ है. इसके आंकड़ों का अध्ययन किया गया तो पता चला कि पिछले 3 महीने में उत्तरकाशी के 132 गांव में 216 बच्चों ने जन्म लिया. हैरानी की बात यह है कि इन 216 बच्चों में कोई भी नवजात शिशु लड़की नहीं है.

जिससे यह स्पष्ट है कि देश में अभी भी कन्या भ्रूण हत्या का दौर थमा नहीं है. उत्तरकाशी में इस तरह के आंकड़ों ने जिला प्रशासन को चकित कर दिया.

जिला मजिस्ट्रेट डॉ आशीष चौहान ने कहा कि, हमने ऐसे क्षेत्रों की पहचान की है, जहां लड़कियों की संख्या शून्य या बहुत कम है.

हम इन क्षेत्रों की निगरानी कर रहे हैं ताकि पता लगाया जा सके इन क्षेत्रों में लड़कियों के न होने की वजह क्या है. क्यूंकि जहां देश “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” के तहत कन्या भ्रूण हत्या को कम करने का प्रयास कर रहा है. वहीं दूसरी तरफ इस तरह के आंकड़े मिलना बहुत ही शर्मनाक है.

जिला मजिस्ट्रेट डॉ आशीष चौहान ने आशा कार्यकर्ताओं के साथ एक आपात बैठक की और उनसे इन क्षेत्रों में सतर्कता बढ़ाने और डेटा पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा.

इसके अलावा सामाजिक कार्यकर्ता कल्पना ठाकुर ने आरोप लगाया कि इन गांव में तीन महीने तक कोई भी लड़की पैदा नहीं हुई है. यह महज एक संयोग नहीं हो सकता. साफ़ साफ़ यह देखा जा सकता है कि जिले में कन्या भ्रूण हत्या हो रही है. सरकार और प्रशासन कुछ नहीं कर रहे हैं.

वहीं अगर बात की जाए हरियाणा और UP की तो सबसे ज्यादा कन्या भ्रूण हत्या के मामले यहीं से आते थे. हालांकि अब इन राज्यों में कन्या भ्रूण हत्या पर रोकथाम हुई है. हरियाणा में कन्या भ्रूण हत्या पर रोकथाम के बाद हरियाणा सरकार ने लड़कियों के लिए कई योजनाएं शुरू की और “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” को प्रोत्साहित किया जा रहा है.

उत्तराखंड सरकार को इस मामले पर कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए. जिन लोगों ने कन्या भ्रूण हत्या को अंजाम दिया है उनकी पहचान कर उन्हें सजा दिलानी चाहिए.

Public View: कन्या भ्रूण हत्या पर एक छोटी सी गुजारिश करना चाहता है कि दुनिया में आने से पहले ही लड़कियों से उनके हक न छीने.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.