Ultimate magazine theme for WordPress.

बंगाल में ममता बनर्जी ने दिया डॉक्टरों को 4 घंटे का अल्टीमेटम, काम पर नहीं लौटे तो होगी कड़ी कार्यवाही

0

पश्चिम बंगाल में सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों ने हड़ताल कर रखी हैं. जिसकी वजह से सारी स्वास्थ्य सेवाएं बंद हो गयी हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सभी डॉक्टरों को 4 घंटे में अपने काम पर वापस जाने का अल्टीमेटम दिया है, और सभी डॉक्टर को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर हड़ताल पर बैठे डॉक्टर, दी गई समय सीमा के अंदर काम पर नहीं लौटते हैं, तो उन पर ‘कड़ी कार्यवाही’ की जाएगी.

कोलकाता के सरकारी NRS मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में सोमवार की रात एक मृत मरीज के परिवार के सदस्यों ने दो जूनियर चिकित्सकों पर भयानक हमला किया, जिसके खिलाफ डॉक्टर प्रदर्शन कर रहे हैं.

साहा ने कहा कि, “आपातकालीन सेवाओं को खुला रखा गया था. भर्ती मरीजों का इलाज किया जा रहा था, लेकिन जैसे ही स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई, तो बाहरी लोगों को अंदर आने से पूरी तरह रोक दिया गया.”

ममता ने सेठ सुखलाल करनानी मेमोरियल अस्पताल का दौरा किया. जहाँ डॉक्टर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. ममता बनर्जी ने इमरजेंसी विभाग के बाहर अस्पताल की लॉबी में इंतजार कर रहे कुछ मरीजों से बातचीत की और अस्पताल के अधिकारियों को फोन पर निर्देश दिया.

इस दौरान प्रदर्शन कर रहे चिकित्सकों ने ‘वी वांट जस्टिस’ का नारे लगाना जारी रखा.
जूनियर डॉक्टरों ने हवा में पोस्टर और तख्तियां लहराईं, जिस पर लिखा था, ‘we want safe workplace’ और ‘हम पर हमला करने वालों को सजा दें.’

ममता ने कहा कि उनकी सरकार जूनियर डॉक्टरों पर हमले की निंदा करती हैं, लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि डॉक्टर होने की वजह से वे अपनी सेवाएं नहीं रोक सकते हैं.

ममता बनर्जी ने यहां तक कहा कि पुलिस अधिकारी अपनी ड्यूटी के दौरान मारे जाते हैं, लेकिन वे धरना-प्रदर्शन नहीं कर सकते.

Strike कर रहे चिकित्सकों से बातचीत करते हुए ममता बनर्जी ने कहा

“कोई रोगियों की सेवा से इनकार करके डॉक्टर नहीं बन सकता. मैं आप सभी से चार घंटों में काम फिर से शुरू करने के लिए कहती हूं. अगर आप इस तरह की बाधा जारी रखेंगे तो सरकारी हॉस्पिटल की सुविधा आपसे छीन ली जाएगी.”

ममता ने यह भी कहा कि अस्पताल के काम में बाधा अपराध है. अच्छी भावना को विकसित होने दें. मैं आपसे काम फिर शुरू करने की अपील करती हूं. अगर बाधा जारी रहती है, तो कानून के अनुसार कड़ी कार्यवाही की जाएगी.

Leave A Reply

Your email address will not be published.