Ultimate magazine theme for WordPress.

हरियाणा पुलिस की ये कारनामा देख चौंक गये लोग, खुली पोल

0

हरियाणा पुलिस की ये कारनामा देख चौंक गये लोग, खुली पोल वहां 4-5 पुलिसवालों के सामने एक जवान महिला को अचानक बेल्ट से पीटने लगता है, जबकि कायदे से किसी महिला की गिरफ्तारी रात में थाने में नहीं की जा सकती और न ही

आपके सामने आज एक कहानी, बिलकुल सच्ची. ये कहानी कुछ पुलिसवालों की है. जो बेहद बहादुर. बेहद मुस्तैद हैं. इतने कि अगर वो किसी महिला को किसी के साथ पार्क में घूमते हुए भी देख लेते हैं. तो सीधे पुलिस स्टेशन में उठा लाते हैं. फिर उसे कुछ इस तरह थर्ड डिग्री टॉर्चर करते हैं कि महिला को बीच में खड़ा कर देते हैं और सारे पुलिसवाले उसके इर्द गिर्द खड़े होकर उसे बेल्ट से पीटने लगते थे.

हरियाणा के फरीदाबाद की पुलिस की पूरी कहानी आपको बताएंगे. दरअसल, इस घटना का वीडियो वायरल हो गया. जो किसी पुलिसवाले ने ही बनाया था. उसमें देखा जा सकता है कि कैसे महिला को थर्ड डिग्री टॉर्चर दिया गया. वीडियो फरीदाबाद में बल्लभगढ़ के आदर्श नगर थाने का है. नाम आदर्श नगर का थाना है. मगर ये करतूक आदर्शों वाली कतई नहीं है. 5 से 6 पुलिस वाले एक महिला की बेल्ट से पिटाई करते दिख रहे हैं.

यही नहीं बल्कि मज़े ले लेकर हंस रहे हैं. मानों महिला को पीटकर ये अपना टाइम पास कर रहे हैं. पुलिसवाले महिला से गुस्सा नजर आ रहे हैं. सूत्रों से पता चला है कि ये महिला पार्क में अपने किसी साथी के साथ रात के वक्त में घूम रही थी. तभी इसे गश्त कर रही है पुलिस ने पकड़ लिया. महिला का साथी तो भाग गया, मगर महिला को उन पुलिस वालों ने जबरन पकड़ लिया.

बस फिर क्या था. पुलिसवाले तमाम कायदे कानूनों को ताख़ पर रखकर रात के वक्त महिला को थाने ले आए और उससे लगातार तीन घंटे या फिर उससे भी ज़्यादा देर तक पूछताछ करते रहे. उससे उसके साथी का नंबर मांगते रहे. वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिसवाले बोल रहे हैं कि तीन घंटे से घुमा रही है. महिला बोलती है कि मैं नंबर बता दूंगी, मारो मत मुझे. इस दौरान एक पुलिस वाला बेल्ट से उसे पीटे जा रहा है. पुलिस वाला बोल रहा कि क्या में इसे नीचे लेटा दूं. खिलाड़ी है ये पूरी एक नंबर की खिलाड़ी.

जब थाने में सबके सामने ये दरिंदगी चल रही थी तो इनमें से ही एक पुलिसवाला चोरी छुपे वीडियो भी बना रहा था. वही वीडियो अब वायरल हो रहा है. बताया जा रहा है कि बल्लभगढ़ के आदर्श नगर पुलिस थाने का ये वीडियो महीनों पुराना है. लेकिन वायरल 26 मई के आस-पास होना बताया जा रहा है.

करीब 4 मिनट के वीडियो को देखकर जो समझ आया उसके मुताबिक इस महिला को पुलिसवाले पार्क में बैठने की वजह से पीट रहे हैं. जबकि ऐसा कुछ भी ग़ैर-कानूनी नहीं. जिसके लिए किसी औरत को उठाकर थाने लाया जाए. आसान शिकार देखकर पूरा पुलिस थाना अपने दिमाग की भभकती फ्रस्ट्रेशन उस औरत पर उतार दे.

लेकिन हमारे यहां पुलिस कानून के नहीं अपने मैनुअल के हिसाब से चलती है. और उन पुलिसवालों का मैनुअल सिखाता है कि अगर देर रात पार्क में अकेली औरत दिख गई तो ये मौक़ा किसी हाल में छोड़ना नहीं चाहिए. क़ानून-वानून कि भले धज्जियां उड़ जाए.

महिलाओं को लेकर क्या है कानून

महिला से पूछताछ या गिरफ्तारी को लेकर कानून कहता है कि किसी भी महिला को शाम छह बजे के बाद और सुबह छह बजे के पहले गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है. उसे हाउस-अरेस्ट किया जा सकता है मगर वो भी सिर्फ महिला पुलिस ही कर सकती है. दिन ढलने के बाद महिला से पूछताछ करना है तो पुलिस को ही उसके घर जाना होगा. महिला की जांच एक महिला पुलिसकर्मी ही कर सकती है. कोई पुरुष पुलिसकर्मी उसे हाथ नहीं लगा सकता. बिना कोर्ट के आदेश पर पुलिस महिला को हथकड़ी भी नहीं लगा सकती है. अगर कोई मेडिकल जांच होनी है तो महिला अपने किसी विश्वासपात्र को अपने साथ रख सकती है. गिरफ्तारी के बाद महिला को जिस पुलिस स्टेशन ले जाया जा रहा है वहां महिला पुलिस अधिकारी का होना जरूरी है.

ढीठ पुलिसवाले और उनके हाथों में बेल्ट

हालांकि ये तो कानून के भीतर के कायदे हैं, लेकिन यहां वही हो रहा है जो सदियों से होता रहा है. सामने
एक कमज़ोर महिला है और इधर ताक़तवर पुलिस वाला या पुलिस स्टेशन है. अंदर कुछ ढीठ पुलिस वाले हैं. पुलिस के हाथ में बेल्ट है. जिसे वह महिला पर बरसाने के लिए बेचैन हैं. इस पर वह रह-रहकर अपने अंदाज से थर्ड डिग्री पुलिसिया दिमाग़ पेश कर रहा है और समूचा पुलिस थाना मिलकर महिला को उसके साथी का मोबाइल नंबर याद दिलाने और उगलने को मजबूर करा रहा है.

बार-बार महिला कोशिश कर रही है लेकिन दस अंक का मोबाइल नंबर नहीं बता पाती है. इस पर एक पुलिसवाला उसे बार-बार लिटाने को भी धमका रहा है. इसका मतलब है, अगर बेल्ट की धुनाई से बात नहीं बनी तो उसे लिटा कर पीटा जाएगा. ऐसा करके उसे मारा भी गया हो, क्या पता? वो वीडियो में तो है नहीं, क्योंकि वीडियो तो सिर्फ़ चार मिनट कुछ सेकेंड का ही है.

अच्छी बात यह रही कि ये वीडियो इधर-उधर से लीक हो गया. इस तरह अब पुलिस की थू-थू भी हो गई. अब तो एक्शन लेना ही था. इसलिए आदर्श नगर पुलिस थाने के 5 लोग दोषी पाये
गये. इस मामले में दो हेड कॉन्स्टेबल सस्पेंड हैं और तीन एसपीओ बर्ख़ास्त किये गये हैं. ये सारा विवाद
चल रहा था और आदर्श नगर थाने से सिर्फ 100 मीटर की दूरी पर एक महिला पुलिस थाना भी है. मतलब यह कि यही पूछताछ महिला पुलिसकर्मी से भी कराया जा सकता था, लेकिन अब ये सवाल बेमानी लगता है कि उन्हें इसकी भनक क्यों नहीं लगी या उन्हें इसकी खबर क्यों नहीं दी गयी.

मामले का वीडियो ही अब आ चुका है और एक्शन भी लिया जा चुका है. अब आगे भी जांच चल रही है. लेकिन सवाल वही है कि ऐसी बेदर्द पुलिस वाकये रात में होने वाली घटनाओं के और कितने वीडियो आएंगे और ऐसे वाकये थमते क्यों नहीं है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.