Ultimate magazine theme for WordPress.

रांची: बरसात से बेहाल RIMS, परिसर में जमा हैं पानी और कबाड़ ऐसे हालात में कैसे होंगे मरीज़ स्वस्थ

0

बरसात के मौसम में बरसात अकेला नहीं आता,बरसात का हाथ थामे कई बीमारियां भी साथ चली आती हैं. लेकिन ये बीमारी फैलने की सबसे बड़ी वजह गन्दगी है. और सोचियें की अगर ये गन्दगी किसी अस्पताल में हो तो वहां का क्या आलम होगा. ऐसा ही कुछ हाल है झारखंड की राजधानी रांची के सबसे प्रसिद्ध अस्पताल RIMS का.

बरसात के मौसम में मच्छरों की तादाद बढ़ जाती है जिसके कारण लोगों में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया जैसे बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. बरसात के शुरुआत में ही इन बीमारियों से ग्रसित लोग रांची के RIMS में पहुंचने लगे हैं. लेकिन जैसा कि मैंने आपको पहले बताया, कि अगर अस्पताल में साफ़ सफाई न हो तो क्या हाल होगा मरीजों का, मच्छर जनित बीमारियों से ग्रसित मरीजों के इलाज के लिए रिम्स के ग्राउंड फ्लोर में आइसाेलेशन वार्ड बनाया गया है.

चिंता की बात तो यह है कि आइसोलेशन वार्ड में ही गंदगी फैली हुई है और जलजमाव की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में यहां इलाज के लिए आये मरीज ठीक कैसे होंगे? हो सकता है कि उनकी मामूली सी बीमारी भी एक खतरनाक रूप ले ले.

वार्ड का कॉरीडोर और वार्ड तो साफ है, लेकिन शौचालय जानेवाले रास्ते में एक जगह है, जिसमें कचरा व कबाड़ जमा हुआ है. वहीं, रास्ते में पानी भी जमा हुआ है. शौचालय जाने के लिए मरीज व उनके परिजनों ने ईंट बिछा दी हैं. शौचालय की खिड़की की ग्रिल भी टूटी है, उस रस्ते से बाहर से मच्छर-मक्खी वार्ड में चले आते हैं.

यह भी पढ़ें:  RIMS के ऑपरेशन थिएटर में भरा पानी, नहीं हो सका 6 मरीजों के ऑपरेशन

अस्पताल के कैंपस में जगह-जगह कबाड़ पड़े हुए हैं जिसमे बरसात का पानी जमा होने लगा है, कबाड़ों में पानी जमा होने के कारण मच्छरों का लार्वा पनपना शुरू हो गया हैं. आसान भाषा में कहें तो गन्दगी की वजह से मच्छरों ने अंडा देना शुरू कर दिया है.

अस्पताल में ऐसी परिस्थिति को देखते हुए, RIMS के निदेशक डाॅ दिनेश कुमार सिंह ने कहा कि, साफ-सफाई के लिए एजेंसी को जिम्मेदारी दी गयी है. आइसोलेशन वार्ड साफ होना ही चाहिए, क्योंकि यहां संक्रमित मरीजों का इलाज किया जाता है. एजेंसी को निर्देश दिया गया है कि वह बरसात में परिसर के अतिरिक्त साफ-सफाई कराए.

बात सिर्फ शौचालय या अस्पताल परिसर तक ही नहीं रूकती. रिम्स के बेसमेंट में भी पानी जमा होने लगा है. यहां तक कि RIMS इमरजेंसी के गेट पर ही पानी जमा है, जिस वजह से लोगों को आने जाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. RIMS इमरजेंसी के गेट पर पानी जमा होने से सबसे ज्यादा परेशान बच्चे और महिलाएं हैं.

अभी तो बरसात शुरू हुई है तो ये हाल है. ज़रा सोचिये जब बरसात अपने चरम पर होगी, और लगातार बारिश होगी तो अस्पताल की हालत क्या होगी ?

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, twitter, Instagram और whats app के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.