Ultimate magazine theme for WordPress.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में RLSP, EVM से छेड़छाड़ संभव, चुनाव बैलट पेपर से हो

0

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) ने EVM पर सवाल उठाते हुए कहा है कि चुनाव EVM मशीन के जरिए नहीं बल्कि बैलेट पेपर से होने चाहिए. RLSP ने चुनाव आयोग से मांग की चुनाव बैलेट पेपर से कराएं जाएं, क्यूंकि EVM के साथ छेड़छाड़ संभव है.

 

EVM में छेड़छाड़ की आशंका को खारिज नहीं किया गया. ऐसा कहा गया कि EVM में प्रोग्रामिंग होती है और उसका कोड किसी को पता है तो दुनिया के किसी भी हिस्से से उसे हैक कर गड़बड़ी की जा सकती है.

 

पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव व प्रवक्ता फ़ज़ल इमाम मल्लिक ने जानकारी दी कि EVM को लेकर बैठक में गंभीर चिंतन हुआ.

 

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के उपाध्यक्ष शंकर झा आजाद ने EVM पर सवाल उठाते हुए कहा कि नतीजे जिस तरह से आए हैं और अधिकांश जगहों पर हार- जीत का जो अंतर है वह अपने आप में शक पैदा करता है.

 

अधिकतर सीटों पर तीन से चार लाख वोटों का अंतर है. ऐसा लगता है कि पहले से ही प्रोग्राम कर दो से तीन लाख वोट EVM में डाल दिए गए हों.

 

पार्टी के नेता पूर्व विधायक डा. विनोद यादव ने EVM के खिलाफ अभियान चलाने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग लाख दलीलें दे लेकिन EVM से साफ- सुथरा चुनाव नहीं कराया जा सकता.

 

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा EVM में छेड़छाड़ की संभावना है

 

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि EVM को लेकर एक बात तो तय है कि इसमें गड़बड़ की जा सकती है. इसकी सौ फीसदी संभावना है. उन्होंने कहा कि हम ऐसा नहीं कह रहे हैं कि लोकसभा चुनाव में EVM में छेड़छाड़ की गई है. लेकिन अगर EVM में छेड़छाड़ की जा सकती है तो इस बात की भी आशंका है कि लोकसभा चुनाव में नतीजों को EVM के जरिए प्रभावित किया गया है.

 

उन्होंने दूसरे नेताओं की बात से सहमति जताई कि चुनाव बैलट पेपर से ही होने चाहिए क्योंकि दुनिया के सौ से ज्यादा देशों में EVM से चुनाव नहीं हो रहे हैं. जिस जापान ने EVM बनाया वहां भी EVM से चुनाव नहीं हो रहे हैं.

 

कार्यकारिणी में आम राय बनी कि EVM में देश में बड़े स्तर पर बहस हो, दूसरे दलों के साथ मिल कर आंदोलन चलाया जाए और EVM की अगुआई राष्ट्रीय पार्टी होने के नाते कांग्रेस करे.

 

अब देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.