Ultimate magazine theme for WordPress.

मालेगांव ब्लास्ट : बढ़ सकती है साध्वी प्रज्ञा की मुश्किलें, गवाह ने पहचानी साध्वी प्रज्ञा के नाम रेजिस्टर्ड बाइक

0

महाराष्ट्र के नासिक जिले के मालेगांव में हुए बम ब्लास्ट केस के तहत मुंबई स्थित स्पेशल NIA कोर्ट में सुनवाई चल रही है. सोमवार को ब्लास्ट के दौरान प्रयोग किए गए वस्तुओं को कोर्ट में पेश किया गया और गवाहों से पहचान कराई गई.

पेश की गई वस्तुओं में से दो बाइक भी शामिल है जिसकी पहचान एक गवाह ने की और बताया कि बम ब्लास्ट के दिन उसने यह बाइक वहां देखी थी. जिसमे कि एक बाइक MLM है और दूसरी होंडा यूनिकॉर्न बाइक है. इसके अलावा गवाह को 5 साइकिल भी पहचान के लिए दिखाई गयी. गवाह ने कहा 2008 सितम्बर में मालेगांव में हुए बम ब्लास्ट में यह दोनों मोटरसाइकिल और साइकिल मौजूद थी. ब्लास्ट में बाइक का अगला हिस्सा पूरी तरह नष्ट हो गया पर ढांचा सलामत है.

इसी कारण अब भोपाल से निर्वाचित सांसद साध्वी प्रज्ञा की मुश्किलें बढ़ सकते हैं क्यूंकि जिस बाइक को गवाह ने पहचाना है वह बाइक साध्वी प्रज्ञा के नाम पर रजिस्टर्ड है.

महाराष्ट्र की ATS टीम ने जांच के दौरान दावा किया था कि ब्लास्ट में इस्तेमाल हुई बाइक साध्वी प्रज्ञा की है. गवाह की पहचान के बाद इस मामले से यह बात और भी स्पष्ट हो जाती है कि BJP की सांसद साध्वी प्रज्ञा का बचाव कठिन हो सकता है. साध्वी प्रज्ञा को इस मामले में बाइक उनके नाम पर रेजिस्टर्ड होने की वजह से पहले ही गिरफ्तार किया गया था लेकिन अभी वह जमानत पर बाहर है.

न्यूज़ एजेंसी ANI ने 2016 में साध्वी प्रज्ञा पर सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल करके कहा था कि वह 2 साल से पहले से ही बाइक को इस्तेमाल नहीं कर रही थी, जिसके बाद कोर्ट ने ANI के इस दावे को खारिज कर दिया था और कहा था कि यह बाइक साध्वी प्रज्ञा के नाम रेजिस्टर्ड है तो इस बात पर जांच होगी कि साध्वी प्रज्ञा का मालेगांव बम ब्लास्ट से संबंध है या नहीं.

29 सितम्बर 2008 को मालेगांव में हुए बम ब्लास्ट में 6 लोगों की मौत हुई थी और 100 से भी ज्यादा लोग घायल हुए थे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.