Ultimate magazine theme for WordPress.

सोनभद्र हत्याकांड: क्या योगी सरकार देर से जागी ?

0

शुक्रवार को, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी 17 जुलाई को सोनभद्र फायरिंग की घटना में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने गयी थी लेकिन उनके काफिले को बीच में ही रोक दिया गया और क्षेत्र धरा 144 लगे होने का हवाला देते हुए उन्हें लिए हिरासत में लिया गया था,

प्रियंका के बाद उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में गोलीकांड जिसमे जिसमें मौके पर ही 10 लोग मारे गए थे, उसके पांचवें दिन यानि रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीड़ितों से मिलने पहुंचे.

इसके बाद तो मनो ट्वीटर जगत में योगी आदित्यनाथ के ऊपर सवालों और आलोचनाओं की बाढ़ आ गयी, जैसा की बिहार और असम बाढ़ आई हुई है. हालांकि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ इन सवालों के बाढ़ से उतना प्रभावित नहीं हुए होंगे जितना की बिहार और असम में लोग बढ़ से प्रभावित हुए हैं.

बहुत से लोगों ने आदित्यनाथ के सोनभद्र में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने का श्रेय कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को दिया. तो वहीँ कुछ लोगों ने योगी के देरी से पहुंचने पर सवाल उठाये.

चलिए आपको दिखाते क्या कुछ ट्वीट किया लोगों ने,

इंडियन युथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव चिरंजीव राव ने ट्वीट किया कि,

अंत में यूपी के सीएम @myogiadityanath अपनी गहरी नींद से जाग गए और आज सोनभद्र आए.

एक यूजर विनय खमकर ने ट्वीट किया कि, “यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बर्बर हत्याकांड के पीड़ितों से मिलने में इतने दिन क्यों लगाए? क्या वो संजीदगी दिखाने के लिए विपक्ष के विरोध का इंतज़ार कर रहे थे?

एक यूजर ने लिखा कि, अब कार्यवाई करने का वक़्त न कि एक दूसरे पर आरोप लगाने का,

एक दूसरे यूजर ने लिखा, भगवान का शुक्रिया, अजय बिष्ट ने ये बातें #Sonbhadra के दौरे पर नहीं कही, जो उन्होंने पिछले साल 13 बच्चों के मारे जाने के बाद ख़ुशी नगर निवासियों को बताया था!

वहीँ कुछ लोग पूछ रहे हैं कि ‘क्या अब सोनभद्र में धारा 144 हटा दी गई है?

हालांकि योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र विवाद के लिए कांग्रेस की पुरानी सरकारों को ज़िम्मेदार ठहराया है.

सोनभद्र पहुंचकर पत्रकारों से बातचीत में योगी ने दावा किया कि इस विवाद की शुरुआत 1950 के दशक में कांग्रेसी सरकार के दौरान ही हो गई थी.

सैयद मकबूल ने ट्वीट कर कहा है, “साल 2019 की घटना के लिए नेहरू को ज़िम्मेदार ठहराकर योगी और उनकी सरकार गांव के प्रधान और भूमाफिया का पक्ष ले रहे हैं. योगी को तुरंत उन आदिवासियों को ज़मीन का पट्टा दे देना चाहिए जो दशकों से वहां खेती कर रहे हैं.”

योगी आदित्यनाथ के सोनभद्र के यात्रा पर प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट किया, प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, “उप्र के माननीय मुख्यमंत्री के सोनभद्र जाने का मैं स्वागत करती हूँ. देर से ही सही, पीड़ितों के साथ खड़ा होना सरकार का फर्ज़ है. अपना फर्ज़ पहचानना अच्छा है.”

क्या था मामला

गौरतलब है कि यह घटना सुदूर घोरावल के उभा गांव की है. गांव के प्रधान ने दो साल पहले लगभग 100 बीघा जमीन खरीदी थी. 17 जुलाई को ग्राम प्रधान दर्जनों ट्रैक्टर पर हथियारबंद लोगों के साथ ज़मीन कब्ज़ा करने पहुंचा जिसका आदिवासियों ने विरोध किया. परिणामस्वरूप, प्रधान के लोगों ने फायरिंग कर दी जिसमें तीन महिलाओं सहित दस गांव वाले मारे गए जबकि दो दर्जन लोग घायल हो गए.

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.