Ultimate magazine theme for WordPress.

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले 6 महीने में 24 हजार बच्चियों के साथ हुए दुष्कर्म पर दिखाई गंभीरता

0

बच्चियों के साथ हो रहे दुष्कर्म की सूची दिन- प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. जनवरी से लेकर जून तक (6 महीनों) में 24 हजार से भी ज्यादा बच्चियों के साथ दुष्कर्म के केस दर्ज हुए हैं.

युवतियों के साथ बढ़ रही दुष्कर्म की घटनाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट इस कदर चिंतित है कि सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लेते हुए जनहित याचिका दायर की है और सख्ती बरतते हुए कहा है कि वह दुष्कर्म करने वालों के लिए निर्देश जारी करेगा ताकि ऐसे दरिंदो के खिलाफ ठोस और स्पष्ट तरीके से राष्ट्रीय जवाबदेही सुनिश्चित की जा सके.

कोर्ट ने मामले को जनहित याचिका में तब्दील करते हुए वरिष्ठ वकील वी गिरी को न्याय मित्र नियुक्त किया है. वी गिरी से कहा है कि आप आंकड़ों का अध्ययन करें और सोमवार को सुझाव दें कि अदालत इस मामले पर क्या निर्देश जारी कर सकती है.

सुप्रीम कोर्ट ने अलग अलग हाईकोर्ट से रेप के कितने मुक़दमे दर्ज हुए हैं इसके आंकड़े मांगे थे. आंकड़े इकट्ठे करने के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा बताई गई रिपोर्ट में हैरान करने वाली जानकारी सामने आई है.

एक अन्य वकील के हस्तक्षेप करने पर कोर्ट ने कहा कि केवल वी गिरी ही अदालत की इस मामले में मदद करेंगे और तीसरा कोई नहीं.

न्यायधीश ने इस रिपोर्ट खतरनाक ट्रेंड बताया है. रिपोर्ट के अनुसार, 2019 में एक जनवरी से लेकर 30 जून के बीच देश भर में बच्चियों के साथ बलात्कार के 24 हजार से भी ज्यादा मुकदमे पुलिस ने दर्ज किए हैं.

जिनमें से अब तक ट्रायल कोर्ट ने महज 911 मामलों का निपटारा किया है.11,981 मामले में छानबीन करना जारी है और 12,231 मामलों में चार्जशीट दायर की जा चुकी है. लेकिन केवल 6,449 मामलों का ट्रायल शुरू हो सका है. इसका मतलब यह है कि केवल 4 फीसदी मामलों का निपटारा हुआ है.

2019 में 6 महीनों के भीतर 24 हजार से ज्यादा बलात्कार की FIR दर्ज हुई हैं वहीं अगर 2016 में इन आंकड़ों को देखा जाए तो सालभर में 16,863 मामले दर्ज किए गए थे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.