Ultimate magazine theme for WordPress.

चिदंबरम के बाद क्या इन कांग्रेसी नेताओं को भी किया जायेगा गिरफ्तार ?

0

INX मीडिया से संबंधित मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को CBI ने गिरफ्तार कर लिया है. मामला काफी हाई प्रोफाइल है क्यूंकि चिदंबरम कांग्रेस के बड़े चेहरे में से एक हैं. चिदंबरम की अग्रिम जमानत ख़ारिज होने के बाद वो CBI से भागे चल रहे थे. हालांकि बुधवार शाम को उनको गिरफ्तार कर लिया गया.

क्या चिदंबरम एकलौते नेता हैं जिनपर ये खतरे की तलवार लटकी और आखिरकार उनपर गिरी भी, तो जवाब है नहीं. अभी ऐसे बहुत से कांग्रेसी नेता हैं जिनपर गिरफ़्तारी का खतरा मंडरा रहा है.

पार्टी में बड़े से लेकर छोटे नेताओं के खिलाफ गंभीर मामले चल रहे हैं. यहां तक कि पार्टी चलाने वालीं अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी भी जमानत पर चल रहे हैं.

सूत्रों ने बताया है कि, भ्रष्टाचार के मामलों को देखें तो दिल्ली से लेकर हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और गुजरात से लेकर महाराष्ट्र तक के बड़े कांग्रेस नेता CBI, इनकम टैक्स और ईडी जैसी एजेंसियों के निशाने पर हैं.

साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि, अब चिदंबरम के बाद कई कांग्रेसी नेताओं पर CBI, ED जैसी एजेंसियां शिकंजा कस सकती हैं.

सबसे पहले ज़िक्र नेशनल हेराल्ड केस-2011 का

इस केस में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और अन्य कांग्रेस नेता फंसे हैं. आरोप है कि कांग्रेस के पैसे से 1938 में एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड नाम की कंपनी खड़ी की गई, जो नेशनल हेराल्ड, नवजीवन और क़ौमी आवाज़. नामक तीन अखबारों का संचालन करती थी.

बता दें कि, एक अप्रैल 2008 को सभी अखबार बंद हो गए. इसके बाद कांग्रेस ने 26 फरवरी 2011 को इसकी 90 करोड़ रुपये की देनदारियों को अपने जिम्मे ले लिया था.

हेलिकॉप्टर घोटाला

अगस्ता वेस्टलैंड वीआइपी हेलीकॉप्टर खरीद घोटाला 2013 में सामने आया था. राजनीतिक सचिव अहमद पटेल पर इतालवी चॉपर कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड से कमीशन लेने के आरोपों की सीबीआई आदि केंद्रीय एजेंसियां जांच कर रही हैं.

बता दें कि, इस मामले में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी का भी नाम है. हालाँकि रतुल पुरी गिरफ़्तार हो चुके हैं.

भूपिंदर सिंह हुड्डा

हरियाणा के पूर्व कांग्रेसी मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के खिलाफ भी गुरुग्राम में जमीन सौदे के मामले में जांच चल रही है.

एंबुलेस घोटालाः

मामला 2010 से लेकर 2013 तक NRHM के तहत एंबुलेंस खरीदने में हुई धांधली का है. एंबुलेंस खरीदने के लिए जो टेंडर जारी किया गया, उसमें झोल-झाल किया गया. इस मामले के शिकायतकर्ता जयपुर नगर निगम के पूर्व मेयर पंकज जोशी थे, जिनके शिकायत पर मामला 31 जुलाई 2014 को जयपुर के अशोक नगर थाना दर्ज किया गया था. राजे सरकार के अनुरोध पर मामला सीआईडी को सौंप दिया गया था.

करोड़ों की एंबुलेंस खरीद में पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी चिदम्बरम के पुत्र कार्ति चिदम्बरम, राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ए.ए खान, श्वेता मंगल, शफी माथेर और निदेशक एन आर एच एम के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 420 (धोखाधड़ी), 467 (जालसाजी), 468 (धोखाधड़ी के लिए जालसाजी), 471, और 120 (बी) के तहत मामला दर्ज किया गया था.

जगदीश टाइटलर

वरिष्ठ कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर भी भ्रष्टाचार के मामले में फंसे हैं. सुप्रीम कोर्ट इस मामले को निचली अदालत को एक साल के अंदर ट्रायल पूरा करने का निर्देश दिया है. मामला वर्ष 2009 का है.

बता दें, टाइटलर पर आरोप है कि उन्होंने बिजनेसमैन अभिषेक वर्मा के साथ मिलकर तत्कालीन गृह राज्य मंत्री अजय माकन के फर्जी लेटर हेड का इस्तेमाल कर तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर एक चीनी टेलीकॉम कंपनी के अफसरों को वीजा के नियमों में छूट देने की सिफारिश की थी.

हरीश रावत

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी सीबीआई जांच की जद में हैं. उनके खिलाफ अप्रैल 2016 में सदन में फ्लोर टेस्ट से पहले बागी विधायकों को समर्थन के लिए घूस की पेशकश करने का आरोप है.

डीके शिवकुमार

कर्नाटक में कांग्रेसी नेता डीके शिवकुमार के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति दर्ज करने का मामला चल रहा है. 2017 में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने डीके शिवकुमार के 64 ठिकानों पर जबर्दस्त छापेमारी की थी. टैक्स चोरी की शिकायतों पर यह कार्रवाई हुई थी.

ऐसे और भी कई कांग्रेसी नेता हैं जो इस वक़्त ज़मानत पर चल रहे हैं.

तो अब सवाल यह उठता है कि, चिदंबरम की तरह ही क्या ये सारे कांग्रेसी नेताओं की भी गिरफ़्तारी की जाएगी. खैर यह तो बाद की बात है कि किसके साथ क्या होता है, लेकिन मोदी सरकार के इस कदम से कांग्रेस के कई नेता सहमे हुए हैं.

अब देश और दुनिया की ताज़ा खबरें पढ़िए www.publicview.in पर, साथ ही साथ आप Facebook, Twitter, Instagram और Whats App के माध्यम से भी हम से जुड़ सकते हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.