Ultimate magazine theme for WordPress.

पनीर के जगह बटर चिकन पहुंचाने पर ZOMATO को 50,000 का जुर्माना

0

एक दुर्लभ फैसले में, महाराष्ट्र के पुणे में उपभोक्ता अदालत ने ज़ोमेटो और एक शहर-आधारित रेस्तरां को एक ग्राहक को 55,000 रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया, क्योंकि उसने पनीर के बजाय चिकन डेलिवर किया था.

शिकायतकर्ता, शन्नमुख देशमुख, जो नागपुर के एक वकील हैं, ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि 31 मई को उन्होंने होटल प्रेट पंजाबी स्वद से ज़ोमेटो के माध्यम से बटर पनीर मसाला का ऑर्डर दिया था.

लेकिन, देशमुख को खाने के वक़्त पता चला कि उन्हें पनीर की जगह चिकन भेजा गया था. उन्होंने दावा किया कि चूंकि दोनों व्यंजनों की ग्रेवी एक जैसी दिखती है, इसलिए उन्होंने महसूस नहीं किया कि यह एक मांसाहारी व्यंजन है.

पता चलने के बाद कि यह चिकन था, उन्होंने दुकानवाले को जानकारी दी जिसने देशमुख से वादा किया कि उनका आर्डर को बदल दिया जायेगा.

जैसा कि वादा किया गया था, होटल प्रीत पंजाबी स्वद ने देशमुख को एक और पार्सल दिया, लेकिन उसमे एक बार फिर मक्खन चिकन निकला.

देशमुख ने जोमाटो और होटल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई और दावा किया कि उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं और उत्पीड़न के लिए 5 लाख रुपये और 1 लाख रुपये का मुआवजा देने की मांग की.

अदालत में, ज़ोमैटो ने तर्क दिया कि यह हमारी गलती नहीं थी बल्कि, यह उस होटल की गलती थी जिसने गलत खाना भेजा. उन्होंने यह भी तर्क दिया कि देशमुख ने खाद्य वितरण मंच के खिलाफ इसे बदनाम करने के लिए शिकायत की थी क्योंकि उसने अपनी राशि वापस कर दी थी. हालांकि, रेस्तरां ने अपनी गलती मान ली.

जोमाटो और होटल को सेवा में कमी के लिए 50,000 रुपये और मानसिक उत्पीड़न के लिए बाकि पैसे का भुगतान करने के लिए निर्देशित किया गया.

Leave A Reply

Your email address will not be published.